उत्तर प्रदेश: भाजपा विधायक लोकेंद्र सिंह चौहान सहित 4 की सड़क हादसे में मौत, मोदी ने जताया शोक

BJP विधायक लोकेंद्र सिंह चौहान की सड़क हादसे में मौत, BJP विधायक लोकेंद्र सिंह चौहान की सड़क हादसे में मौत

उत्तर प्रदेश में सीतापुर के कमलापुर क्षेत्र में आज सुबह हुई भीषण सड़क दुर्घटना में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के विधायक लोकेन्द्र सिंह सहित चार लोगों की मृत्यु हो गई.

पुलिस सूत्रों ने बताया कि बिजनौर के नूरपुर विधानसभा क्षेा से भाजपा विधायक सिंह अपनी  कार से लखनऊ में आयोजित इनवेस्टर्स समिट में शामिल होने के लिए आ रहे थे. उन्होंने बताया कि कमलापुर क्षेत्र में राष्ट्रीय राजमार्ग पर ककरहिया पारा के पास सुबह करीब सवा पांच बजे उनकी कार को तेज रफ्तार ट्रक ने टक्कर मार दी. 

हादसा इतना भीषण था कि 45 वर्षीय विधायक सिंह, उनके दो गनर दीपक कुमार और ब्रिजेश मिश्रा के अलावा ट्रक क्लीनर की मौके पर ही मृत्यु हो गई जबकि कार चालक घायल हो गया.
       
हादसे के बाद ट्रक चालक फरार हो गया. घटना की सूचना के बाद पुलिस अधीक्षक समेत अन्य अधिकारी मौके पर पहुंचे. उन्होंने बताया कि हादसा इतना भीषण था कि कार को काटकर शवों को निाकला गया. घायल कार चालक को अस्पताल में भर्ती करा दिया गया है.  ट्रक चालक की तलाश की रही है.

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) विधायक लोकेन्द्र सिंह चौहान की सड़क हादसे में हुई मृत्यु पर शोक व्यक्त  किया है.

मोदी ने ट्वीट कर कहा लोकेन्द्र जी की सड़क हादसे में हुई मृत्यु पर मन दु:खी है. उनकी समाज के लिये की गयी सेवा को हमेशा याद किया जायेगा. समाज के प्रति उनकी समर्पण भावना को भाजपा हमेशा याद रखेगी. इस संकट की घड़ी में हम सभी उनके परिवार के साथ है. 
        
विधायक सिंह की मृत्यु पर राज्यपाल राम नाईक, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, विधानसभा अध्यक्ष हृदय नारायण दीक्षित और भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष डॉ महेन्द्र नाथ पाण्डेय ने दुख: व्यक्त किया है .

पाण्डेय ने कहा कि विधायक सिंह युवा थे , कर्मठ थे. उनके निधन से पार्टी का नुकसान हुआ है. अपने क्षेत्र के विकास के लिए वह हमेशा प्रयासरत रहते थे. 

बिजनौर के नूरपुर से दूसरी बार विधायक रहे सिंह ने अपने क्षेत्र में पार्टी को काफी मजबूत किया था. उनके निधन से पार्टी ने एक युवा और कर्मठ कार्यकर्ता को खो दिया. पार्टी के प्रदेश महासचिव विजय बहादुर पाठक ने कहा कि सिंह विनम्र और हंसमुख थे. इन्वेस्टर्स समिट को लेकर काफी उत्साहित थे. वह अपने क्षेत्र में निवेश को लेकर प्रयासरत थे. उन्होंने इस संबंध में पार्टी और सरकार के जिम्मेदार लोगों से बात भी की थी लेकिन उनका अचानक इस दुनिया चले जाना काफी दुखदाई रहा.