अफसरों का मुख्यमंत्री व मंत्रियों की बैठकों में भाग न लेने का ऐलान

,

आईएएस, दानिक्स व दास काडर एसोसिएशन की संयुक्त बैठक में बुधवार को निर्णय लिया गया कि तीनों काडर के अधिकारी मुख्यमंत्री या किसी भी मंत्री की बैठक में शामिल नहीं होंगे.

यह फैसला तुरंत लागू होगा. इससे मंत्री को बैठक करना मुश्किल हो जाएगा. आज के निर्णय का असर वृहस्पतिवार को दिखेगा जब मंत्री अपने कक्ष में बैठक बुलाएंगे. फरवरी माह में मुख्यमंत्री व उपमुख्यमंत्री बजट संबंधी बैठक प्रतिदिन कर रहे हैं. 
 अधिकारियों ने निर्णय लिया कि मुख्यमंत्री से सिर्फ अनुरोध करने से मामले का हल नहीं निकलता दिख रहा है. आने वाले दिनों में तीनों एसोसिएशन कई अन्य निर्णय भी करेगा जिससे सरकार के काम काज पर सीधा असर पड़ेगा. दिल्ली जल बोर्ड कर्मचारी एसोसिएशन ने आईएएस, दानिक्स व दास काडर के साथ आज एकजुटता दिखाई. अब कई अन्य एसोसिएशन जल्द इसी विरोध का हिस्सा बनेंगे जिससे सरकार के खिलाफ कर्मचारी बड़ी संख्या में लामबंद होंगे.

विधायी समिति की बैठक में नहीं पहुंचे अंशु प्रकाश
नई दिल्ली (एसएनबी). दिल्ली विधान सभा की विधाई समिति द्वारा बुधवार को बुलाई गई बैठक में दिल्ली सरकार के मुख्य सचिव अंशु प्रकाश नहीं पहुंच सके. विधायी समिति के सदस्य सौरभ भारद्वाज ने बैठक का समय समाप्त होने के बाद मुख्य सचिव पर आरोप लगाया कि आईएएस एसोसिएशन द्वारा बैठक में शामिल होने के निर्णय के कारण मुख्य सचिव बैठक से अनुपस्थित रहे. भारद्वाज ने कहा कि यह बैठक 20 फरवरी को तय थी लेकिन मुख्य सचिव ने समय मांगा तो 21 फरवरी को तीन बजे बैठक तय कर दी गई, लेकिन मुख्य सचिव के ओएसडी ने बताया कि मुख्य सचिव पीएमओ गए हैं. फिर बैठक पांच बजे तय की गई. हमने पांच बजे से 6.15 बजे तक इंजजार किया लेकिन मुख्य सचिव नहीं पहुंचे. कहा गया कि मुख्य सचिव बीमार हैं व अस्पताल गए हैं. 

दिल्ली आईएएस एसोसिएशन ने राष्ट्रपति से मांगा समय
मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल के सरकारी आवास पर मुख्य सचिव से हुई बदसलूकी मामले में आरोपियों के विरुद्ध अब तक हुई कार्रवाई से आईएएस एवं दानिक्स अधिकारी संतुष्ट नहीं हैं. शायद यही वजह है कि उन्होंने राष्ट्रपति रामनाथ कोबिंद से मिलने के लिए समय मांगा है. दिल्ली आईएएस एसोसिएशन ने कहा है कि सचिवालय में बुधवार को सभी अधिकारियों ने अपना-अपना कार्य निपटाया. दिल्ली सरकार के विभिन्न विभागों में 70 आईएएस एवं करीब 400 दानिक्स अधिकारी काम करते हैं. इस मुद्दे पर सभी अधिकारी मंगलवार को ही केंद्रीय गृहसचिव राजनाथ सिंह से मिलकर अपनी बात रख चुके हैं. मुख्यसचिव अंशु प्रकाश के साथ बदसलूकी की घटना को लेकर अधिकारियों में काफी रोष है. बुधवार को कुछ आरोपियों के विरुद्ध पुलिस कार्रवाई भी की गई है, लेकिन इस कार्रवाई से अधिकारी संतुष्ट नहीं हैं. दिल्ली आईएएस एसोसिएशन की सचिव मनीषा सक्सेना ने कहा कि वह राष्ट्रपति से मिलकर अपनी बात रखेंगे और मांग करेंगे कि आरोपियों के विरुद्ध कार्रवाई तेज हो. जिससे भविष्य में किसी भी अधिकारी के साथ इस तरह की बदसलूकी की घटना न हो सके.