300 से अधिक सरकारी स्कूलों में नर्सरी दाखिले का मौका

,

दिल्ली में निजी स्कूलों में नर्सरी दाखिले को लेकर पहली मेरिट सूची ने ज्यादातर अभिभावकों को निराश किया है, और 28 फरवरी को जारी होने वाली उन्हें दूसरी सूची से उम्मीदें हैं.

हालांकि दूसरी सूची में सीटों की संख्या बेहद कम रहने वाली है. लेकिन अभिभावकों की उम्मीदों पर यहीं पूर्ण विराम नहीं लगेगा. सामान्य वर्ग के छात्रों को नर्सरी दाखिले का एक अवसर और मिलेगा जब राजकीय विद्यालयों में दाखिला प्रक्रिया शुरू होगी. नए सत्र में तीन सौ से अधिक राजकीय विद्यालयों में नर्सरी दाखिलों के अवसर मिलेंगे.

राजकीय विद्यालयों के 150 और स्कूलों में इस सत्र से नर्सरी, केजी और पहली कक्षा के लिए दाखिला शुरू होंगे. शिक्षा निदेशालय ने पिछले सत्र में 154 स्कूलों में नर्सरी कक्षाएं शुरू की थीं. इन स्कूलों में दाखिला प्रक्रिया मार्च से शुरू होनी है.

यहां निजी स्कूलों की तर्ज पर ही स्मार्ट कक्षायें, स्कूल के झूले, बेबी टॉयलेट और आधुनिक तकनीकें विकसित की गई हैं. साथ ही यहां पढ़ने के लिए मोटी फीस चुकाने की भी जरूरत नहीं है. इन विद्यालयों में अभिभावकों को फीस, यूनिफार्म और किताबों का कोई खर्च नहीं उठाना होगा.

शिक्षा निदेशालय का दावा है कि अभिभावकों को निजी स्कूलों में दाखिला नहीं मिलता हो चिंता की बात नहीं, उनके लिए सरकारी स्कूल कहीं से कम नहीं हैं.

2018-19 में निजी स्कूलों की नर्सरी, केजी व पहली कक्षा की सामान्य वर्ग वाली सीटों में दाखिला प्रक्रिया शुरू करने के लिए शिक्षा निदेशालय ने 19 दिसम्बर को दिशानिर्देश जारी किए थे.