दूसरों के लिए भी रोजगार पैदा करें युवा : कोविंद

,

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने हाल के वर्षों में रोजगार के बदलते परिदृश्य के मद्देनजर छात्रों से आज अपील की कि वे स्वरोजगार के लिए उपलब्ध कराये गये सरकारी अवसरों का लाभ उठायें और दूसरों के लिए भी रोजगार पैदा करें.

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने कहा कि रोजगार की अवधारणा अब पारम्परिक नौकरी तक सीमित नहीं रही है, बल्कि अब यह खुद के साथ-साथ दूसरों के लिए भी रोजगार के अवसर सृजित करने तक पहुंच चुकी है. 

हाल के वर्षों में रोजगार के बदलते परिदृश्य के मद्देनजर छात्रों से अपील करते हुए कोविंद ने कहा कि वे स्वरोजगार के लिए उपलब्ध कराये गये सरकारी अवसरों का लाभ उठायें और दूसरों के लिए भी रोजगार का अवसर उपलब्ध करायें.

कोविंद ने दिल्ली विश्वविद्यालय के पीजीडीएवी कॉलेज के हीरक जंयती समारोह में कहा, खुद के अलावा औरों के लिए स्वरोजगार के अवसर सृजित करना अब ज्यादा संभव हो गया है.



ई-कॉमर्स, परिवहन और पर्यटन क्षेत्र में युवाओं द्वारा शुरू किये गये स्टार्टअप एवं उनकी सफलता की कहानियों का उल्लेख करते हुए श्री कोविंद ने कहा कि 21वीं सदी ज्ञान आधारित अर्थव्यवस्था का कालखंड है और प्रतिभाओं एवं बुद्धिमताओं पर आधारित सफलता का प्रतिशत पूंजी निवेश की तुलना में अधिक रहा है.

रामनाथ कोविंद कहा, आज के युग में नये विचारों, नयी सोच और नवाचार की ताकत धन से अधिक है.