बाबरी मस्जिद: अमरनाथ मिश्र ने सलमान नदवी पर लगाया रिश्वत मांगने का आरोप

,

ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड से निकाले गये मौलाना सलमान नदवी पर आध्यात्मिक गुरु श्री श्री रविशंकर के नजदीकी रहे अमरनाथ मिश्र ने अयोध्या मामले को लेकर रिश्वत मांगने का गम्भीर आरोप लगाया है. 

मिश्र के अनुसार नदवी ने बाबरी मस्जिद पर दावा छोड़ने के एवज में राज्यसभा की सदस्यता, दो सौ एकड़ जमीन और करोड़ों रुपये की मांग की थी.

दूसरी ओर, नदवी ने मिश्र के आरोपों को बेबुनियाद और हास्यास्पद बताते हुए कहा कि उन पर साजिशन आरोप लगाये जा रहे हैं. उन्होंने कहा कि इस तरह का आरोप लगाकर उनकी प्रतिष्ठा को खराब करने का प्रयास किया जा रहा है. उनकी तो मिश्र से कभी मुलाकात ही नहीं हुई है. उन्होंने कहा कि जल्द ही वह देश के नामीगिरामी मौलानाओं के साथ यहां बैठक करेंगे. बैठक में पूरे देश से मौलानाओं को आमंत्रित किया जायेगा.

उधर, अयोध्या के मंदिर मस्जिद विवाद का बातचीत से हल निकालने के लिये आध्यात्मिक गुरु श्री श्री रविशंकर आगामी 12 मार्च को हिन्दू और मुस्लिम धर्माचार्यों से मुलाकात करेंगे. श्री श्री के नजदीकी और पूर्व आईएएस अधिकारी डॉ एस पी सिंह ने इसी सिलसिले में एक दिन पहले अयोध्या का दौरा किया था. उन्होंने हनुमानगढ़ी के महंत ज्ञानदास और कुछ अन्य लोगों से मुलाकात की थी.

सिंह के अनुसार श्री श्री चाहते हैं कि इस मामले का हल भी निकल आये और लोगों के दिलों में दूरियां न बढ़े. शांतिपूर्वक हल निकलने से समाज और देश सभी का भला होगा.

सिंह ने दावा किया कि अयोध्या में श्री श्री को पूरा समर्थन मिल रहा है. अयोध्या के लोग चाहते हैं कि इस मुद्दे का शांतिपूर्ण हल निकले. उन्होंने कुछ मुस्लिमों के श्री श्री की बैठकों का बहिष्कार किये जाने सम्बन्धी खबरों को गलत बताया और कहा कि शांतिपूर्वक हल सभी चाहते हैँ. ऐसे में विरोध की बात कहां आती है.

इस बीच, फैजाबाद के कुछ लोगों का मत है कि श्री श्री अयोध्या स्थानीय लोगों का मन टटोलने आते हैं. सामाजिक कार्यकर्ता राजेन्द्र प्रताप सिंह दावा करते हैं कि श्री श्री चर्चा में बने रहने के साथ ही यह भी जानने आते हैं कि निर्णायक दौर में पहुंच रहे इस मुकदमे के फैसले के बाद अयोध्या और उसके आसपास के लोगों की मन स्थिति क्या रहेगी.