पंजाब बैंक धोखाधडी मामले में आभूषण डिजाइनर नीरव मोदी के ठिकानों पर ईडी के छापे

,

आभूषण डिजाइनर नीरव मोदी और कुछ अन्य के खिलाफ 280 करोड़ रुपये की मनी लांडरिंग के आरोपों की जांच के सिलसिले में आज प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने देश में कई जगह छापेमारी की.

यह कार्रवाई पंजाब नेशनल बैंक की शिकायत के आधार पर की जा रही है.
     
आधिकारिक सूत्रों ने कहा कि तडके शुरू हुई कार्रवाई में मुंबई, गुजरात और दिल्ली में कम से कम दस जगह छापे डाले गए. 
    
प्रवर्तन निदशालय के अधिकारियों ने जिन जगहों पर यह कार्रवाई की, उनमें मोदी का मुंबई के कुरला इलाके का घर, काला घोडा इलाके की डिजाइनर आभूषणों की दुकान, बांद्रा और लोअर परेल इलाके में कंपनी के तीन ठिकाने, गुजरात के सूरत में तीन ठिकाने और दिल्ली के डिफेंस कालोनी और चाणक्यपुरी इलाके में मोदी के शो-रूम शामिल हैं.
    
प्रवर्तन निदेशालय ने मामले में सीबीआई में इस माह के शुरू में दर्ज एक प्राथमिकी एफआईआरी के आधार पर मनी लांडरिंग निरोधक अधिनिमर्य पीएमएलएी के तहत मामला दर्ज किया है.
   
समझा जाता है कि ईडी ने पीएनबी की ओर से मोदी और अन्य के खिलाफ प्रस्तुत की गयी शिकायातों पर भी गौर किया है. 
   
सीबीआई ने नीरव मोदी, उसकी पत्नी और उसके एक भागीदार को बैंक के साथ 2017 में 280.70 करोड रुपये की धोखाधडी के मामले में नामजद किया है.

प्रवर्तन निदेशालय की टीमों ने नीरव मोदी के भाई निशाल, पत्नी अमी और मेहुल चीनूभाई चोकसी तथा दो नामजद बैंक अधिकारी गोकुलनाथ शेट्टी और मनोज खराट के घरों पर भी तलाशी की. निशाल, अमी और मेहुल ये सभी डायमंड आर यूएस, सोलार एक्सपोर्ट्स और स्टेलर डामंड्स में भागीदार है. शेट्टी सेवानिवृत्त हो चुका है.
   
सीबीआई की प्राथमिकी में कहा गया है कि इन सरकारी बैंकी अधिकारियों ने उपरोक्त फर्मों को धन का लाभ पहुंचाने के लिए अपने आधिकारिक पद का दुरुपयोग किया जिससे 2017 में पंजाब नेशनल बैंक को 280.70 करोड रुपये का गलत तरीके से नुकसान हुआ. 
    
बैंक ने यह भी शिकायत की है कि उसके यहां से धोखाधडी कर के आरोपी इकाइयों के पक्ष में या उनकी ओर से 16 जनवरी 2018 को कुछ साख-पत्र जारी किए गए. इन इकाइयों ने बैंक की मुंबई स्थित संबंधित शाखा को आयात संबंधी कुछ दस्तावेज दिए थे और आवेदन किया था कि माल भेजने वाली विदेशी इकाइयों के भुगतान के लिए वेता की ओर से साख पत्र जारी कर दिए जाएं.
     
सीबीआई को कल पीएनबी की ओर से दो और शिकायतें मिलीं. इनमें बैंक ने अब कहा है कि नीरव मोदी और एक आभूषण कंपनी ने उसके साथ सौदों में 11,400 करोड रुपये की धोखाधडी की है.