सेंचुरियन वनडे : ठाकुर ने झटके 4 विकेट, द. अफ्रीका 204 पर सिमटी

,

शार्दूल ठाकुर (52-4) के करियर के सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन के दम पर भारत ने शुक्रवार को सुपर स्पोर्ट पार्क मैदान पर खेले जा रहे छह वनडे मैचों की सीरीज के आखिरी मैच में दक्षिण अफ्रीका को बड़ा स्कोर बनाने से रोक दिया.

ठाकुर का यह तीसरा मैच है जिसमें उन्होंने अपने छोटे से करियर का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन किया. उनके अलावा युजवेंद्र चहल और जसप्रीत बुमराह को दो-दो सफलताएं मिलीं. हार्दिक पांड्या और कुलदीप यादव को एक-एक विकेट मिला. भारतीय गेंदबाजों ने लगातार विकेट लेकर मेजबान टीम को 46.5 ओवरों में 204 रनों पर ही ऑल आउट कर दिया.

एडिन मार्करम (24) और हाशिम अमला (10) की सलामी जोड़ी एक बार फिर मेजबान टीम को अच्छी शुरुआत देने से वंचित रह गई. इस सीरीज में पहली बार खेल रहे शार्दूल ने अमला को विकेट के पीछे महेंद्र सिंह धौनी के हाथों कैच कराया. अमला 23 के कुल स्कोर पर आउट हुए.

ठाकुर ने मार्कराम को भी अपना शिकार बनाया. 43 के कुल स्कोर पर श्रेयस अय्यर ने उनका कैच पकड़ा. अब्राहम डिविलियर्स (30) और खाया जोंडो (54) ने टीम को संभाला. लग रहा था कि यह जोड़ी आसानी से टीम को बड़े स्कोर तक पहुंचा देगी, लेकिन चहल की फिरकी ने डिविलयर्स के विकेट को उखाड़ कर मेजबान टीम को बड़ा झटका दिया.

इस मैच में हेइनरिक क्लासेन (22) भी अच्छी शुरुआत को बड़े स्कोर में बदल नहीं पाए और 135 के कुल स्कोर पर बुमराह की गेंद पर विराट कोहली के हाथों लपके गए. फरहान बेहरदीन सिर्फ 1 रन ही जोड़ सके. उन्हें ठाकुर ने अपना तीसरा शिकार बनाया.

क्रिस मौरिस (4) को शिखर धवन के हाथों कैच करा कुलदीप ने अपना खाता खोला. इसी बीच जोंडो ने अपना अर्धशतक पूरा कर लिया, लेकिन वह ज्यादा आगे नहीं जा पाए और चहल की गेंद पर हार्दिक पांड्या के हाथों लपके गए. उन्होंने 74 गेंदों की अपनी पारी में तीन चौके और दो छक्के लगाए.

जोंडो का विकेट 151 को कुल स्कोर गिरा. वह सातवें विकेट के रूप में आउट हुए. लग रहा था कि मेजबान टीम 200 के पार भी नहीं पहुंच पाएगी, लेकिन अंत में आंदिले फेहुलकवायो के 42 गेंदों में दो छक्के और दो चौके की मदद से 34 रन और मोर्ने मोर्कल के 19 गेंदों में दो छक्कों के मदद से 20 रनों की पारी खेलकर मेजबान टीम को 200 के पार पहुंचाया.