देश में प्रस्तावित दो डिफेन्स इन्डस्ट्रियल कॉरीडोर में से एक यूपी में: मोदी

,

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने देश में दो ‘डिफेन्स इन्डस्ट्रियल कॉरीडोर’ स्थापित करने की आज घोषणा की.

मोदी ने लखनऊ में आयोजित बड़े कारोबारियों के कुंभ ‘यूपी इन्वेस्टर्स समिट-2018’ में यह घोषणा करते हुए कहा कि इसमें से एक उत्तर प्रदेश में प्रस्तावित है. इस कॉरीडोर के निर्माण के बाद खासतौर पर बुन्देलखण्ड को बहुत फायदा होगा. उन्होंने कहा आगरा, अलीगढ़, लखनऊ, कानपुर और झांसी होते हुए चित्रकूट तक जाने वाले इस कॉरीडोर में 20 हजार करोड़ रुपये निवेश होने की संभावना है. इसमें ढाई लाख लोगों को रोजगार के अवसर मिलेंगे.

उन्होंने कहा कि पूर्वांचल और बुन्देलखण्ड का औद्योगिकीकरण तेजी से होगा. अभी तक उत्तर प्रदेश में तीन हवाई अड्डे थे. अब कुशीनगर और जेवर में भी अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा बनाया जा रहा है. उड़ान योजना के तहत उत्तर प्रदेश के 11 शहरों में हवाई अड्डों का विकास किया जा रहा है.

मोदी ने कहा, ‘मेरा सपना है, हवाई चप्पल पहनने वाला भी हवाई जहाज में सफर करे.’ पिछले वर्ष उत्तर प्रदेश से हवाई या करने वाले यात्रियों में 30 फीसदी की बढ़ोत्तरी हुई थी. नये हवाई अड्डे बन जाने पर इसमें काफी बढ़ोत्तरी होगी. इस राज्य में नौ हजार किलोमीटर का रेलवे नेटवर्क है. ईस्टर्न और वेस्टर्न कारीडोर बन जाने पर उत्तर प्रदेश की अर्थव्यवस्था को काफी मजबूती मिलेगी. उत्तर प्रदेश के विकास में उछाल आयेगा.

 

मुकेश अम्बानी, गौतम अडानी, आदित्य बिड़ला, एम चन्द्रशेखरन, रशेस शाह, आनन्द महिन्द्रा, सुभाष चन्द्रा जैसे  नामी गिरामी उद्योगपतियों की मौजूदगी में चल रहे दो दिवसीय समिट के उद्घाटन सत्र में मोदी ने कहा कि वाराणसी से हल्दिया तक शुरू हो रहे जल यातायात भी राज्य को विकास की नई ऊंचाईयों पर ले जायेगा. उत्तर प्रदेश के सभी ग्राम पंचायतों में आप्टिकल फाइबर से जुड़ जाने पर यहां का हर गांव पूरी दुनिया के सम्पर्क में आ जायेगा.

उन्होंने कहा कि यह योजनाएं उत्तर प्रदेश को 21वीं सदी में नई बुलन्दियों पर ले जायेगा. यातायात की सुगमता से व्यापार में आसानी होती है. टूरिज्म बढ़ेगा तो ‘जॉब ग्रोथ’ पर भी इसका असर पड़ेगा.