INDvsWI: पहले टेस्ट में ही पृथ्वी शॉ ने ठोका शानदार शतक, बनाया ये रिकॉर्ड

वार्ता, राजकोट

18 साल के भारतीय बल्लेबाज पृथ्वी शॉ ने वेस्टइंडीज के खिलाफ गुरूवार से शुरू हुये पहले क्रिकेट टेस्ट के पहले दिन अपने पदार्पण मैच में शतक ठोक इतिहास रच दिया।

पृथ्वी की मौजूदा आयु 18 वर्ष 329 दिन है और वह अपने पदार्पण मैच में शतक लगाने वाले सबसे कम उम्र के पहले भारतीय क्रिकेटर बन गये हैं। मुंबई के युवा बल्लेबाज ने भारत की पहली पारी में 99 गेंदों में अपने 100 रन पूरे किये। उन्होंने यहां सौराष्ट्र क्रिकेट संघ स्टेडियम में भारतीय पारी में ओपनिंग करते हुये 56 गेंदों में अपने 50 रन और लंच के बाद 99 गेंदों में 15 चौकों की मदद से 100 रन पूरे किये।
         
इससे पहले भारत के लिये सबसे कम उम्र में पदार्पण टेस्ट अर्धशतक लगाने की उपलब्धि अब्बास अली बेग के नाम थी जिन्होंने वर्ष 1959 में मैनचेस्टर में इंग्लैंड के खिलाफ 20 वर्ष की आयु में अर्धशतक लगाया था।

भारतीय कप्तान विराट कोहली ने सुबह टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी का फैसला किया और मैच से पूर्व पृथ्वी को टेस्ट कैप सौंपी। पृथ्वी भारत के लिये टेस्ट पदार्पण करने वाले 293वें खिलाड़ी हैं।

वह ओवरऑल पदार्पण टेस्ट में शतक बनाने वाले 15वें भारतीय बल्लेबाज बन गये हैं। इससे पहले यह उपलब्धि लाला अमरनाथ, दीपक शोधन, कृपाल सिंह, अब्बास अली बेग, हनुमंत सिंह, गुंडप्पा विनाथ, सुरेंद्र अमरनाथ, मोहम्मद अजहरूद्दीन, प्रवीण आमरे, सौरभ गांगुली, वीरेंद्र सहवाग, सुरेश रैना, शिखर धवन और रोहित शर्मा को हासिल थी। रोहित ने नवंबर 2013 में वेस्टइंडीज के खिलाफ पदार्पण मैच में शतक बनाया था। उसके पांच वर्ष बाद जाकर पृथ्वी ने यह उपलब्धि हासिल की है।
                
पृथ्वी टेस्ट शतक बनाने वाले दूसरे सबसे युवा भारतीय युवा बल्लेबाज हैं। सचिन तेंदुलकर ने 17 साल 107 दिन की आयु में शतक बनाया था। सचिन ने पृथ्वी से कम उम्र में तीन टेस्ट शतक बना डाले थे। ओवरऑल टेस्ट में शतक बनाने वाले पृथ्वी सातवें सबसे युवा खिलाड़ी हैं।
        
पृथ्वी के नाम प्रथम श्रेणी क्रिकेट और टेस्ट क्रिकेट में पदार्पण शतक बनाने की दुर्लभ उपलब्धि दर्ज है। उनसे पहले गुंडप्पा विश्वनाथ और आस्ट्रेलिया के डर्क वेलहैम के नाम यह उपलब्धि दर्ज थी। सहवाग ने भी टेस्ट पदार्पण में और अपनी पहली प्रथम श्रेणी पारी में शतक बनाया था लेकिन उनका प्रथम श्रेणी शतक उनके दूसरे प्रथम श्रेणी मैच में आया था।
 
पिछले 10 सालों में यह पहला मौका भी है जब भारतीय टीम के लिये इतनी कम उम्र में किसी खिलाड़ी ने टेस्ट पदार्पण किया है। आखिरी बार वर्ष 2007 में तेज गेंदबाज इशांत शर्मा ने 18 साल 265 दिन की आयु में बंगलादेश के खिलाफ पदार्पण किया था। वह भारत के लिये टेस्ट पदार्पण करने वाले ओवरऑल 13वें सबसे युवा खिलाड़ी भी हैं।
       
भारतीय कप्तान विराट कोहली ने सुबह टॉस जीतकर मैच में वेस्टइंडीज के खिलाफ पहले बल्लेबाजी का फैसला किया और मैच से पूर्व पृथ्वी को टेस्ट कैप सौंपी। इसी के साथ पृथ्वी भारत के लिये टेस्ट पदार्पण करने वाले 293वें खिलाड़ी भी बन गये।
        
पृथ्वी ने अपने इस ऐतिहासिक प्रदर्शन से पहले इस साल भारत ए की ओर से खेलते हुये दक्षिण अफ्रीका ए के खिलाफ अगस्त में 136 रन, जुलाई में वेस्टइंडीज ए के खिलाफ 188 रन और जून में वेस्टइंडीज ए के खिलाफ 102 रन बनाये। पृथ्वी उस समय सुर्खियों में आये थे जब उन्होंने 14 साल की उम्र में 330 गेंदों में 85 चौकों और पांच छक्कों की मदद से 546 रन बनाये थे।