CWG 2108: भारत की झोली में 24 गोल्ड और पदकों का अर्धशतक

समय लाइव डेस्क/भाषा/आईएएनएस, गोल्ड कोस्ट (आस्ट्रेलिया)

भारत की महिला एकल टेबल टेनिस खिलाड़ी मानिका बत्रा ने शनिवार को 21वें राष्ट्रमंडल खेलों में स्वर्ण पदक हासिल किया है। मानिका ने फाइनल मुकाबले में सिंगापुर की मेंगयू यू को 4-0 से हराया। मानिका ने 11-7, 11-6, 11-2, 11-7 से जीत दर्ज की।

ऑस्ट्रेलिया के गोल्ड कोस्ट में आयोजित 21वें राष्ट्रमंडल खेलों में आज भारत के लिए सुनहरा दिन रहा जहां भारत ने पदक तालिका में अब तक कुल 55 मेडल जीत कर तीसरे स्थान पर बना हुआ है.

इस तरह से 21वें राष्ट्रमंडल खेलों में भारत ने अब तक कुल 55 मेडल जीत लिए हैं. इनमें 24 गोल्ड, 14 सिल्वर और 17 ब्रॉन्ज शामिल हैं. भारत पदक तालिका में तीसरे स्थान पर बना हुआ है. वहीं ऑस्ट्रेलिया 72 गोल्ड के साथ पहले और इंग्लैंड 38 गोल्ड के साथ दूसरे पायदान पर है.

इससे पहले आज सुबह सबसे पहले मैरी कॉम फिर शूटर संजीव राजपूत के बाद मुक्‍केबाज गौरव सोलंकी ने गोल्ड दिलाया फिर नीरज चोपड़ा ने गोल्ड मेडल जीता। इसके बाद रेसलर साक्षी मलिक ने भारत को ब्रॉन्ज मेडल दिलवाया तो फिर रेसलर सुमित और महिलाओं की फ्री स्टाइल कुश्ती में विनेश फोगाट ने भारत को छठा गोल्ड दिलवा दिया.

विनेश और सुमित ने जीता स्वर्ण, साक्षी को कांस्य

भारत की विनेश फोगाट (50 किग्रा) और सुमित (125 किग्रा) ने गजब का प्रदर्शन करते हुये 21वें राष्ट्रमंडल खेलों के 10वें दिन शनिवार को स्वर्ण पदक जीत लिये जबकि ओलंपिक कांस्य पदक विजेता साक्षी मलिक (62 किग्रा) और सोमवीर(86) को कांस्य पदक से संतोष करना पड़ा।
         
विनेश और सुमित के स्वर्ण पदकों से गोल्ड कोस्ट में भारत के कुश्ती के स्वर्ण पदकों की संख्या पांच पहुंच गयी और उसने पिछले ग्लास्गो राष्ट्रमंडल खेलों के पांच स्वर्ण पदकों की बराबरी कर ली।

विनेश और सुमित से पहले सुशील कुमार, राहुल अवारे और बजरंग ने स्वर्ण पदक जीते थे। भारत ने कुश्ती में अपना अभियान पांच स्वर्ण, तीन रजत और चार कांस्य सहित सभी 12 पदकों के साथ समाप्त किया। सोमवीर ने इन खेलों में भारत को कुश्ती का आखिरी पदक दिलाया।
         
राष्ट्रमंडल कुश्ती के तीसरे और अंतिम दिन सुमित ने भारत को पहला स्वर्ण दिलाया। महाबली सतपाल के शिष्य और भारत केसरी सुमित के वर्ग में छह से कम पहलवान होने के कारण इसे नार्डिक सिस्टम के तहत खेला गया जिसमें सभी पहलवानों को एक दूसरे से मुकाबला करना होता है और जीत के हिसाब से क्लासिफिकेशन अंक मिलते हैं।

नीरज चोपड़ा ने भालाफेंक में स्वर्ण पदक जीता          

नीरज चोपड़ा आज राष्ट्रमंडल खेलों की भालाफेंक स्पर्धा में स्वर्ण पदक जीतने वाले पहले भारतीय बन गए जिन्होंने यहां फाइनल में सत्र का सर्वश्रेष्ठ 86.47 मीटर का थ्रो फेंका ।   जूनियर विश्व चैम्पियन 20 बरस के नीरज ने कल पहले ही थ्रो में क्वालीफाइंग आंकड़े को छूकर फाइनल में जगह बनाई थी ।  पिछले महीने पटियाला में फेडरेशन कप राष्ट्रीय चैम्पियनशिप में 85.94 मीटर का थ्रो फेंककर उन्होंने स्वर्ण जीता था ।     

ओलंपिक और विश्व रजत पदक विजेता कीनिया के जूलियस येगो फाइनल के लिये क्वालीफाई नहीं कर सके थे । वहीं 2012 ओलंपिक चैम्पियन और रियो खेलों के कांस्य पदक विजेता केशोर्न वालकाट ने इन खेलों में भाग नहीं लिया । 

राष्ट्रमंडल खेल (मुक्केबाजी) : मैरी कॉम ने जीता गोल्ड

पांच बार की विश्व चैम्पियन और ओलंपिक कांस्य पदक विजेता एम सी मेरीकोम (48 किलो) राष्ट्रमंडल खेलों में महिला मुक्केबाजी में स्वर्ण जीतने वाली पहली भारतीय हो गई जबकि गौरव सोलंकी (52 किलो ) ने भी पीला तमगा अपने नाम किया। शूटिंग में भारतीय शूटर संजीव राजपूत ने मेन्स 50 मीटर राइफल-3 पोजिशन में रिकॉर्ड 454.5 प्वाइंट्स के साथ गोल्ड मेडल पर कब्जा किया।

अमित पंघाल (49 किलो) और मनीष कौशिक (60 किलो) को रजत पदक से संतोष करना पड़ा। पहली और संभवत: आखिरी बार राष्ट्रमंडल खेलों में भाग ले रही 35 बरस की मेरीकोम ने महिलाओं के 48 किलो फाइनल में उत्तरी आयरलैंड की क्रिस्टीना ओहारा को 5.0 से हराया।     

मेरीकोम ने कहा, ‘मुझे खुशी है कि मैने फिर इतिहास रचा। देश के लिये इन खेलों में महिला मुक्केबाजी में पहला पदक जीतकर अच्छा लग रहा है।’ उन्होंने कहा, ‘यह पदक और मेरा हर पदक मेरे लिये खास है क्योंकि मैने सबके लिये मेहनत की है । जब तक फिट हूं , मैं यह मेहनत करती रहूंगी ।’’          

ओहारा के पास मेरीकोम के दमदार पंच और फिटनेस का जवाब नहीं था । मेरीकोम ने मुकाबले को लगभग एकतरफा बना दिया ।      

पांच महीने पहले एशियाई चैम्पियनशिप में स्वर्ण जीतने वाली मेरीकोम ने जनवरी में इंडिया ओपन जीता था । उन्होंने बुल्गारिया में स्ट्रांजा मेमोरियल टूर्नामेंट में भी रजत पदक जीता था ।    

राष्ट्रमंडल खेल (मुक्केबाजी) : गौरव ने जीता स्वर्ण पदक

भारत के मुक्केबाज गौरव सोलंकी ने यहां जारी 21वें राष्ट्रमंडल खेलों के 10वें दिन शनिवार को मुक्केबाजी में दूसरा स्वर्ण पदक दिलाया है। गौरव ने पुरुषों की 52 किलोग्राम भारवर्ग स्पर्धा के फाइनल में उत्तरी आयरलैंड के ब्रेंडन इरवाइन को 4-1 से मात देते हुए सोने का तमगा हासिल किया।

वह तीसरा दौर हार गए थे लेकिन पहले दो दौर में प्रदर्शन इतना अच्छा रहा कि अपने पदार्पण खेलों में ही उन्होंने स्वर्ण जीत लिया । उन्होंने कहा, ‘मैं यह पदक अपनी मां को समर्पित करता हूं । मैं तोक्यो ओलंपिक में भारत का प्रतिनिधित्व करना चाहता हूं और तिरंगा लहराते देखना चाहता हूं ।’     

गौरव का यह राष्ट्रमंडल खेलों में पहला पदक है। इससे पहले शनिवार को ही मैरी कॉम ने भारत को मुक्केबाजी में पहला स्वर्ण पदक दिलाया था।

पहले राउंड में गौरव पूरी तरह से हावी रहे। उन्होंने अपने बाएं जैब से अच्छे अंक जुटाए और इरवाइन को परेशान किया। दूसरे राउंड में गौरव और ज्यादा आक्रामक हो गए और उन्होंने लगातार पंच मारते हुए इरवाइन पर दबाव बनाए रखा। इस राउंड में जैब के अलावा गौरव ने कुछ अच्छे अपरकट का इस्तेमाल भी किया। इरवाइन काउंटर तो कर रहे थे, लेकिन ज्यादा सफल नहीं हो पा रहे थे।

आखिरी राउंड में गौरव ने और बेहतर प्रदर्शन किया और इरवाइन को आक्रमण नहीं करने दिया।

अमित और मनीष दोनों बंटे हुए फैसले पर हार गए । अमित को इंग्लैंड के गालाल याफाइ ने हराया । वहीं मनीष को आस्ट्रेलिया के हैरी गारसाइड ने 3.2 से मात दी ।

राष्ट्रमंडल खेल (निशानेबाजी) : संजीव ने जीता स्वर्ण पदक
संजीव राजपूत ने यहां जारी 21वें राष्ट्रमंडल खेलों के 10वें दिन शनिवार को निशानेबाजी में भारत की झोली में एक और स्वर्ण पदक डाला है। संजीव ने बेलमोंट शूटिंग सेंटर पर पुरुषों की 50 मीटर राइफल-3 पोजीशन स्पर्धा में स्वर्ण पदक हासिल किया। इसी स्पर्धा में भारत के चैन सिंह को पांचवां स्थान मिला।

संजीव ने कुल 454.5 का स्कोर करते हुए गेम रिकार्ड के साथ स्वर्ण पर कब्जा जमाया। रजत पदक कनाडा के ग्रेजगोर्ज स्याच के नाम रहा जिन्होंने 448.4 का स्कोर किया। इंग्लैंड के डीन बेल 441.2 का स्कोर करते हुए कांस्य पदक अपने नाम करने में सफल रहे।

संजीव ने क्वालीफिकेशन में 1180 के गेम रिकार्ड के साथ पहला स्थान हासिल करते हुए फाइनल में जगह बनाई तो वहीं चैन 1166 के स्कोर के साथ दूसरे स्थान पर रहे।

राष्ट्रमंडल खेल (मुक्केबाजी) : मनीष कौशिक को रजत पदक
भारत के मुक्केबाज मनीष कौशिक ने यहां जारी 21वें राष्ट्रमंडल खेलों के 10वें दिन शनिवार को रजत पदक अपने नाम किया है। मनीष को पुरुषों की 60 किलोग्राम भारवर्ग स्पर्धा के फाइनल में आस्ट्रेलिया के हैरी गारसाइड ने कड़े मुकाबले मं 3-2 से मात दी।

मुकाबल बेहद रोचक रहा। पहले राउंड में मनीष डिफेंसिव होकर खेल रहे थे, लेकिन दूसरे राउंड में उन्होंने आक्रामकता दिखाई। दोनों मुक्केबाज एक दूसरे को मौका देना नहीं चाहते थे। गारसाइड ने चालाकी से कुछ पंच मनीष को लगाए। वहीं मनीष ने भी राइट जैब और हुक का अच्छा इस्तेमाल किया। आखिरी राउंड के अंतिम समय में मनीष ज्यादा रक्षात्मक हो गए थे।