CWG 2018: भारतीय महिला हाकी टीम पहले मुकाबले में वेल्स से हारी

भाषा, गोल्ड कोस्ट

राष्ट्रमंडल खेलों में भारतीय महिला हाकी टीम के अभियान की शुरूआत निराशाजनक रही जब निचली रैंिकग वाली वेल्स ने आखिरी क्षणों में गोल करके उसे ग्रुप ए के मुकाबले में 3-2 से हरा दिया।     

विश्व रैंकिंग में दसवें स्थान पर काबिज भारतीय टीम के लिये यह आसान मुकाबला माना जा रहा था लेकिन 26वीं रैंकिंग वाली वेल्स ने उसे नाकों चने चबवा दिये।      मेलबर्न खेल 2006 में रजत पदक जीतने के बाद  पहला राष्ट्रमंडल पदक जीतने के इरादे से उतरी भारतीय टीम पहले 30 मिनट तक पीछे थी। तीसरे क्वार्टर में दो गोल करके उसने बराबरी की लेकिन वेल्स ने आखिरी क्षणों में गोल करके जीत दर्ज की।      

वेल्स के लिये लीसा डाले ( सातवां मिनट), सियान फ्रेंच (26वां ) और नताशा मार्क जोंस (57वां मिनट ) ने गोल दागे। भारत के लिये कप्तान रानी रामपाल (34वां) और निक्की प्रधान ( 41वां) ने गोल किये।          

भारत ने मैच में 14 पेनल्टी कार्नर बर्बाद किये।      

कप्तान रानी रामपाल ने कहा ,‘‘ हमें अधिक ऊर्जा के साथ आक्रामक हाकी खेलनी होगी। हम दबाव में आ गए थे।’’     

कोच हरेंद्र सिंह ने कहा ,‘‘हमने आसान गोल गंवाये जो चिंता का सबब है। हमारा पेनल्टी कार्नर तब्दीली का दर सिर्फ 31 प्रतिशत था। हमने गोल पर 50 प्रतिशत हमले किये लेकिन निशाने चूके। वेल्स की गोलकीपर रोसेने थामस ने भी शानदार प्रदर्शन किया।’’     

मैनचेस्टर राष्ट्रमंडल खेल 2002 की स्वर्ण पदक विजेता भारतीय महिला टीम पिछले दो राष्ट्रमंडल खेलों में पांचवें स्थान पर रही थी।      

दूसरे ग्रुप मैच में कल भारत का सामना मलेशिया से होगा।      

हरेंद्र ने कहा ,‘‘ हमें मौकों का फायदा उठाकर अधिक गोल करने होंगे। अगले कुछ मैचों में हम पर दबाव होगा लेकिन हम चुनौती के लिये तैयार हैं।’’