CWG: शूटर तेजस्विनी ने लगाया सिल्वर पर निशाना

भाषा , ब्रिसबेन

अनुभवी निशानेबाज तेजस्विनी सावंत ने बेहतरीन प्रदर्शन करते हुए 21वें राष्ट्रमंडल खेलों में महिलाओं की 50 मीटर राइफल प्रोन स्पर्धा में रजत पदक जीत लिया।      

तेजस्विनी ने 102.1, 102.4, 103.3, 102.8, 103.7, 104.6 का स्कोर किया । उसका कुल स्कोर 618.9 रहा जिसके दम पर उसने राष्ट्रमंडल खेलों में छठा पदक जीता।      

भारत की अंजुम मुद्गल 602.2 अंक लेकर 16वें स्थान पर रहीं।

सिंगापुर की मार्टिना लिंडसे वेलोसो ने 621 का स्कोर करके खेलों के रिकार्ड के साथ स्वर्ण पदक जीता। स्काटलैंड की सियोनेड मैकिनटोश ने 618.1 स्कोर करके कांस्य पदक हासिल किया ।      

चार सीरिज के बाद पूर्व विश्व चैम्पियन दूसरे स्थान पर थी जबकि मुद्गल पर बाहर होने का खतरा था। उसने पांचवीं सीरीज के बाद तक दूसरा स्थान बरकरार रखा।      

राष्ट्रमंडल खेलों में छठीं बार पदक जीतने के बाद सावंत ने कहा, ‘‘यह बेहतरीन है। मैं बहुत खुश हूं।’’     

भावी योजनाओं के बारे में पूछने पर उन्होंने कहा, ‘‘मेरा लक्ष्य 2020 तोक्यो ओलंपिक है लेकिन फिलहाल ध्यान जकार्ता में अगस्त में होने वाले एशियाई खेलों पर है। इसके बाद दक्षिण कोरिया में विश्व चैम्पियनशिप होनी है।’’     

राष्ट्रमंडल खेल 2006 में 10 मीटर एयर राइफल एकल में स्वर्ण और अवनीत कौर सिद्धू के साथ युगल में स्वर्ण पदक जीतने वाली तेजस्विनी 2010 विश्व चैम्पियनशिप में स्वर्ण जीतने वाली पहली भारतीय थीं।      

दिल्ली में 2010 में हुए राष्ट्रमंडल खेलों में उसने 50 मीटर राइफल प्रोन एकल में रजत और मीना कुमारी के साथ युगल में कांस्य पदक जीता था। उसने लज्जा गोस्वामी के साथ 50 मीटर राइफल थ्री पोजिशन में भी रजत जीता था।     

अंजुम मुद्गल के लिये हालांकि आज खराब दिन था। उसने पिछले महीने ही मैक्सिको में 50 मीटर राइफल थ्री पोजिशन में रजत पदक जीता था जब प्रोन में क्वालीफिकेशन में 400 में से 399 स्कोर किया था।      

नीरज कुमार और विश्व जूनियर चैम्पियन अनीश भानवाला 25 मीटर रैपिड फायर पिस्टल स्पर्धा में पहले और तीसरे स्थान पर रहे। उन्होंने क्रमश: 291 और 286 स्कोर किया।