हैदराबाद विस्फोट: दोषियों के लिए मौत की सजा चाहते हैं पीड़ित

भाषा , हैदराबाद

हैदराबाद के गोकुल चाट और लुंबिनी पार्क इलाकों में 2007 में हुए दोहरे विस्फोटों के पीड़ितों ने इस घटना के दोषियों के लिए मौत की सजा की मांग की है।

एक स्थानीय अदालत ने मंगलवार को इंडियन मुजाहिदीन के सदस्य अनीक शफीक सईद और मोहम्मद अकबर इस्माइल चौधरी को इस मामले में दोषी ठहराया और इस मामले में दो अन्य को बरी कर दिया।     

आईएम के दोषी सदस्यों को सजा अगले सोमवार को सुनाई जाएगी।     

विस्फोट में अपनी एक आंख गंवाने वाले चंद्र नायक ने कहा कि वह दो आरोपियों को बरी किये जाने के फैसले से निराश हैं और उन्होंने राज्य सरकार से मांग की है कि इस फैसले को उच्च न्यायालय में चुनौती दी जाए।     

नायक ने कहा, ‘‘भारतीय कानून के हिसाब से सबसे कठोर सजा फांसी है। मैं चाहता हूं कि इस मामले के दोषियों को फांसी दी जाए। सरकार को दोषियों की समस्त संपत्ति भी जब्त कर लेनी चाहिए और पीड़ितों को इसे बांट देना चाहिए।’’     

उनके हाथ में एक प्लेकार्ड था जिस पर लिखा था कि तेलंगाना के मुख्यमंत्री को पीड़ितों की मदद करनी चाहिए।     

उस समय 18 साल के रहे नायक कुछ किताबें खरीदने कोटी इलाके में गये थे और विस्फोट में जख्मी हो गये।     

विस्फोट में अपनी बेटी और दो अन्य करीबी रिश्तेदारों को खोने वाले बी अंजैया ने कहा कि वह दोषियों को मृत्युदंड दिये जाने की उम्मीद करते हैं।     

गोकुल चाट इलाके में हुए विस्फोट में चोटिल हुए सैयद रहीम ने कहा कि दोषियों को फांसी पर लटकाना चाहिए।