स्वायत्तता बहाल कीजिए, एलओसी को एलओपी बनाइए : फारूक

आईएएनएस, जम्मू

जम्मू एवं कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री फारूक अब्दुल्ला ने रविवार को कहा कि नियंत्रण रेखा को स्थायी सीमा में परिवर्तित करना और राज्य को आंतरिक स्वायत्तता बहाल करना कश्मीर समस्या सुलझाने का एकमात्र रास्ता है।

पुंछ जिले के मेंधर में बालाकोट इलाके में पार्टी की एक सभा को संबोधित करते हुए फारूक ने कहा, "भारतीय संविधान के दायरे में जम्मू एवं कश्मीर को आंतरिक स्वायत्तता बहाल करना और एलओसी को शांति रेखा में परिवर्तित करना क्षेत्र में शांति कायम करने का एकमात्र रास्ता है।"

नेशनल कांफ्रेंस के अध्यक्ष ने भारत और पाकिस्तान से आग्रह किया कि दोनों देशों को संवाद शुरू करना चाहिए और घाटी के लोगों को एक स्वीकार्य समाधान में शामिल करना चाहिए।

उन्होंने कहा, "तत्कालीन प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी ने कारगिल युद्ध के बावजूद राष्ट्रपति परवेज मुशर्रफ को आमंत्रित किया था और उनकी राजनीतिक सूझबूझ के कारण ही संघर्षविराम समझौता हो पाया था, जिसके कारण लंबे समय तक सीमा पर रहने वालों में खुशहाली छायी रही थी।"

उन्होंने कहा, "नई दिल्ली की मौजूदा सरकार ने चारों तरफ अफरातफरी की स्थिति पैदा कर दी है और लोग अपनी पहचान पर खतरा महसूस कर रहे हैं, जिसके कारण वे सड़कों पर उतर रहे हैं।"