सैमसंग भारत को वैश्विक निर्यात केंद्र बनाएगा : मोदी

आईएएनएस, नोएडा

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को यहां कहा कि नोएडा में दक्षिण कोरियाई कंपनी सैमसंग की सबसे बड़ी वैश्विक मोबाइल फैक्ट्री न केवल ज्यादा नौकरियों का सृजन करेगी, बल्कि भारत को एक वैश्विक निर्यात केंद्र भी बनाएगी। सेक्टर 81 में यहां 129,000 वर्ग मीटर में फैली नई फैक्ट्री का उद्घाटन करते हुए मोदी ने कहा कि सैमसंग अन्य बाजारों में नोएडा में बने 30 प्रतिशत हैंडसेट्स का निर्यात करेगा।

उन्होंने कहा, "भारत फोन विनिर्माण के क्षेत्र में दूसरे स्थान पर है। 120 मोबाइल फैक्ट्रियों में 50 अकेले नोएडा में हैं। इन इकाइयों में 40,0000 लोगों से ज्यादा काम करते हैं और सैमसंग 70,000 लोगों के साथ इसकी अगुवाई कर रहा है।"

मोदी ने यहां लोगों को संबोधित करते हुए कहा, "नई इकाई सीधे 1,000 लोगों को नौकरी देगी, जिससे इस इकाई की मौजूदा कार्य क्षमता 6,000 लोगों की हो जाएगी। सबसे अच्छी बात यह है कि कंपनी यहां के बने 30 प्रतिशत हैंडसेट्स अन्य बाजारों में बेचेगी।"

उन्होंने कहा कि नई मोबाइल विनिर्माण इकाई से भारत-दक्षिण कोरिया के संबंध बेहतर होंगे, क्योंकि सैमसंग का सबसे बड़ा वैश्विक 'आर एंड डी' केंद्र पहले से ही यहां है।

प्रधानमंत्री ने कहा, "लगभग सभी मध्यवर्गीय भारतीय परिवार कोरिया के कम से कम एक उत्पाद का इस्तेमाल करता है। सैमसंग का भारत में एक निश्चित स्थान है। भारत डिजिटल बदलाव के दौर से गुजर रहा है और मैं दक्षिण कोरिया की अन्य कंपनियों से भी गुजारिश करता हूं कि वे यहां आएं और निवेश करें।"

सैमसंग की इस इकाई से 2020 तक सैमसंग इंडिया का वार्षिक मोबाइल उत्पादन दोगुना होकर 12 करोड़ इकाई हो जाएगा।

गैलेक्सी एस9, एस9 प्लस और गैलेक्सी नोट 8 समेत सभी मोबाइल फोन का उत्पादन नोएडा संयंत्र में होता है।

सैमसंग इंडिया के सीईओ एचसी होंग ने कहा, "हम सरकारी नीतियों के साथ जुड़े हुए हैं और मोबाइल फोन के क्षेत्र में भारत को वैश्विक निर्यात केंद्र बनाने के हमारे सपने को पाने के लिए उनका(सरकारी नीतियों) सहयोग चाहते हैं।"

उद्घाटन समारोह में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ समेत सैमसंग के वरिष्ठ अधिकारी भी मौजूद थे। आदित्यनाथ ने भी दक्षिण कोरिया की अन्य कंपनियों को यहां आने और निवेश करने का निमंत्रण दिया।

सैमसंग इंडिया के वैश्विक उपाध्यक्ष आसिम वारसी ने आईएएनएस से कहा, "मैं भारतीय होने के नाते गर्व महसूस कर रहा हूं। यह सैमसंग इंडिया के इतिहास में एक महान उपलब्धि है, जो हमारे देश के विनिर्माण क्षमताओं को नई ऊंचाइयों पर ले जाएगा।"