सेंसेक्स 300 की छलांग लगाकर हुआ 36 हजारी

वार्ता, मुंबई

अधिकांश एशियाई बाजारों से मिले मजबूत संकेतों के बीच ऊर्जा, रिएल्टी सहित अधिकतर समूहों में हुई बेजोड़ लिवाली से बीएसई का 30 शेयरों वाला संवेदी सूचकांक सेंसेक्स 304.90 अंक की तेज छलांग लगाकर पांच माह से अधिक के उच्चतम स्तर 36,239.62 अंक पर पहुंच गया। निफ्टी भी 94.35 अंक की बढ़त में 10,947.25 अंक पर पहुंच गया।

घरेलू निवेशकों की मजबूत धारणा से शेयर बाजार में तेजी का सिलसिला आज भी जारी रहा और सेंसेक्स बढ़त में 36,000 के अंक के पार 36,068.27 अंक पर खुला। पूरे कारोबार के दौरान इसमें तेजी बनी रही।

विश्लेषकों की राय में वैश्विक स्तर पर कई कारक निवेशकों को हतोत्साहित करने वाले हैं लेकिन उन्हें चालू वित्त वर्ष की दूसरी छमाही में कंपनियों के बेहतर परिणाम की उम्मीद है। इसी वजह से लिवाली हावी रही है। घरेलू निवेशकों को भी उम्मीद है कि जून की समाप्त तिमाही में कंपनियों का प्रदर्शन अच्छा रहेगा। किफायती आवास की सरकार की महत्वाकांक्षी योजना से निर्माण क्षेत्र से जुड़ी कंपनियों में तेजी रहने का अनुमान है और टैरिफ को लेकर जारी युद्ध के कारण स्टील और अन्य क्षेत्रों में उत्पाद की कीमत बढ़ने की संभावना है।

सेंसेक्स कारोबार के दौरान 36,274.33 अंक के उच्चतम और 36,019.63 अंक के निचले स्तर से होता हुआ गत दिवस की तुलना में 0.85 प्रतिशत की तेजी में 36,239.62 अंक पर बंद हुआ। यह एक फरवरी के बाद का इसका उच्चतम स्तर है। सेंसेक्स की 20 कंपनियों तेजी में और 10 गिरावट में रहीं।

निफ्टी भी तेजी के साथ 10,902.75 अंक पर खुला। कारोबार के दौरान यह 10,956.90 अंक के दिवस के उच्चतम और 10,876.65 अंक के दिवस के निचले स्तर से होता हुआ गत दिवस की तुलना में 0.87 प्रतिशत की तेजी में 10,947.25 अंक पर बंद हुआ। यह इसका भी फरवरी के बाद का उच्चतम स्तर है। निफ्टी की 33 कंपनियों में तेजी और 17 में गिरावट रही।

दिग्गज कंपनियों की अपेक्षा छोटी और मंझोली कंपनियों का प्रदर्शन अधिक अच्छा रहा। बीएसई का मिडकैप 1.01 प्रतिशत यानी 156.69 अंक की तेजी में 15,737.77 अंक पर और स्मॉलकैप 1.04 प्रतिशत यानी 169.64 अंक की तेजी में 16483.58 अंक पर बंद हुआ।

बीएसई में कुल 2,776 कंपनियों के शेयरों में कारोबार हुआ जिनमें 1,676 में तेजी, 962 में गिरावट और शेष 138 कंपनियों के शेयरों के कीमतें अपरिवर्तित रहीं।

एशियाई बाजारों में जापान का निक्की 0.66, चीन का शंघाई कंपोजिट 0.44 और दक्षिण कोरिया का कोस्पी 0.37 प्रतिशत की तेजी में रहा। हांगकांग का हैगशैंग 0.02 प्रतिशत की गिरावट में रहा। यूरोपीय बाजारों में ब्रिटेन का एफटीएसई 0.05 प्रतिशत की तेजी में और जर्मनी का डैक्स 0.06 प्रतिशत की गिरावट में रहा।

 बीएसई के 20 समूहों में मा स्वास्थ्य समूह के सूचकांक में 0.14 प्रतिशत की गिरावट रही। शेष सभी 19 समूहों में बढ़त रही। सर्वाधिक तेजी ऊर्जा समूह के सूचकांक में 2.01 प्रतिशत की रही। इसके साथ ही रिएल्टी में 1.79, पीएसयू में 0.96, बेसिक मैटेरियल्स में 1.09, सीडीजीएस में 0.90, एफएमसीजी में 0.40, वित्त में 0.92, इंडस्ट्रियल्स में 0.82, आईटी में 0.42, दूरसंचार में 1.75, यूटिलिटीज में 1.30,ऑटो में 0.94, बैंकिंग में 0.58, पूंजीगत वस्तु में 0.88, सीडी में 0.46, धातु में 1.58, तेल एवं गैस में 1.06, बिजली में 0.86 और टेक में 0.51 प्रतिशत की तेजी रही।

सेंसेक्स की 30 कंपनियों में रिलायंस में 3.02, यस बैंक में 2.58, कोल इंडिया में 2.56, बजाज ऑटो में 2.36, विप्रो में 2.26, टाटा स्टील में 2.11, एनटीपीसी में 1.82, मारुति में 1.72, एक्सिस बैंक में 1.70, भारती एयरटेल में 1.60, एचडीएफसी में 1.54, एचडीएफसी बैंक में 1.31, अदानी पोटर्स में 1.05,भारतीय स्टेट बैंक में 0.82, आईसीआईसीआई बैंक में 0.79,टाटा मोटर्स में 0.75, आईटीसी में 0.73, एशियन पेंट्स में 0.40, ओएनजीसी में 0.32 और इंफोसिस में 0.26 प्रतिशत की तेजी रही।

इंडसइंड बैंक में एक प्रतिशत, कोटक बैंक में 0.96, सन फार्मा में 0.96, हीरो मोटोकॉर्प्स में 0.83, टीसीएस में 0.56, ¨हदुस्तान यूनीलीवर में 0.40, पावर ग्रिड में 0.24, म¨हद्रा एंड म¨हद्रा में 0.20, वेदांता में 0.20 और एलएंडटी में 0.16 प्रतिशत की गिरावट रही।