सीरिया पर अमेरिका-फ्रांस-ब्रिटेन के हमले के बाद रूस ने ‘परिणाम भुगतने’ की चेतावनी दी

एजेंसियां, वाशिंगटन

सीरिया के सहयोगी देश रूस ने संदिग्ध रासायनिक हमले के जवाब में बशर अल असद सरकार के खिलाफ अमेरिका के नेतृत्व वाले हमलों के बाद ‘परिणाम’ भुगतने की चेतावनी दी है। अमेरिका में रूस के राजदूत एनातोली एंतोनोव ने कहा, एक बार फिर, हमें धमकाया जा रहा है। हम आगाह करते हैं कि ऐसी कार्रवाई को बिना परिणाम भुगते नहीं छोड़ा जाएगा। इसकी सारी जिम्मेदारी अमेरिका, ब्रिटेन और फ्रांस पर है। रूस के राष्ट्रपति का अपमान करना अस्वीकार्य और अमान्य है। 

रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने अमेरिका तथा उसके सहयोगियों द्वारा सीरिया पर किए गए हमले को ‘आक्रामकता वाला कृत्य’ करार देते हुए कहा, यह सीरिया में मानवीय संकट को और बढ़ाएगा। क्रेमलिन द्वारा जारी बयान में रूस के नेता ने कहा, अमेरिका, ब्रिटेन और फ्रांस द्वारा किए गए हमले को लेकर मास्को संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की आपातकालीन बैठक बुला रहा है। पुतिन ने कहा, इस हमले का ‘अंतरराष्ट्रीय संबंधों की पूरी व्यवस्था पर विनाशकारी प्रभाव’ पड़ेगा। उन्होंने रूस के इस नजरिये को फिर से दोहराया कि सीरिया के डाउमा शहर पर कथित रसायनिक हमला जिसके कारण यह हमला हुआ, झूठा था।

लक्ष्य रासायनिक हथियार : मैक्रॉन
पेरिस। फ्रांसीसी राष्ट्रपति एमैनुएल मैक्रॉन ने कहा, सीरियाई सरकार की रासायनिक हथियारों के उत्पादन और उनके इस्तेमाल की क्षमता को लक्षित कर अमेरिका और ब्रिटेन द्वारा चलाए जा रहे अभियान से फ्रांस भी जुड़ा है। सीरियाई राजधानी से धमाकों की आवाज सुने जाने के कुछ समय बाद ही उन्होंने एक बयान जारी कर कहा, हम रासायनिक हथियारों के इस्तेमाल को सामान्य माने जाने की बात को बर्दाश्त नहीं कर सकते।

हमारा मिशन पूरा हुआ : ट्रंप
वाशिंगटन। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने शनिवार को अमेरिका, ब्रिटेन और फ्रांस द्वारा सीरियाई शासन के खिलाफ ‘बेहतर ढंग से’ किए गए हमलों की प्रशंसा की और घोषणा की, मिशन पूरा हो गया है। अमेरिकी राष्ट्रपति ने दावा किया कि संयुक्त अभियान का मकसद रासायनिक हथियारों के उत्पादन, इसे फैलाने और इसके प्रयोग के खिलाफ ‘कड़ा निवारक’ पैदा करना था। हमले के बाद पहली प्रतिक्रिया में ट्रंप ने ट्वीट किया, शुक्रवार रात बेहतर ढंग से हमला किया गया। फ्रांस और ब्रिटेन को उनकी बुद्धिमत्ता तथा उनकी शानदार सेना की शक्ति को धन्यवाद। उन्होंने कहा, परिणाम इससे बेहतर नहीं हो सकते थे। मिशन पूरा हुआ।

सभी देश संयम बरतें : गुटेरेस
संयुक्त राष्ट्र। संयुक्त राष्ट्र प्रमुख एंटोनियो गुटेरेस ने कहा, सीरिया अंतरराष्ट्रीय शांति और सुरक्षा के लिए ‘सबसे गंभीर खतरा’ पेश करता है। उन्होंने सभी सदस्य देशों से संयम बरतने तथा ऐसा कोई भी काम करने से बचने की अपील की है जिससे स्थिति और बिगड़ सकती है तथा सीरियाई लोगों की परेशानियों और बढ़ सकती हैं। सीरिया के राष्ट्रपति बशर अल असद सरकार के खिलाफ अमेरिका, ब्रिटेन और फ्रांस के संयुक्त सैन्य हवाई हमलों के मद्देनजर गुटेरेस ने यह टिप्पणी की। मैं सभी सदस्य देशों से अपील करता हूं कि वह इन खतरनाक परिस्थितियों में संयम बरते और ऐसी किसी भी कार्रवाई से बचे जिससे स्थिति और बिगड़े तथा सीरिया लोगों की तकलीफें बढें।

पश्चिम देशों का हमला नाकाम होगा : सीरिया
दमिश्क। सीरिया की सरकार ने अपने सैन्य प्रतिष्ठानों पर हुए पश्चिमी देशों के हमले शनिवार को निंदा करते हुए इसे नृशंस और अंतराष्ट्रीय कानून का उल्लंघन करने वाला बताया। अमेरिका, फ्रांस और ब्रिटेन ने सीरिया की राजधानी दमिश्क के आसपास और होम्स स्थित सैन्य ठिकानों पर शनिवार सुबह हमला किया। विदेश मंत्रालय ने इसे अंतरराष्ट्रीय कानून का उल्लंघन करने वाला बताया है।

ईरान ने किया आगाह
तेहरान। अमेरिका, ब्रिटेन और फ्रांस के सीरिया पर किए संयुक्त हमलों पर ईरान ने ‘क्षेत्र पर पड़ने वाले परिणामों’ को लेकर आगाह किया है। विदेश मंत्रालय ने कहा, अमेरिका और उसके सहयोगियों के पास कोई सबूत नहीं है, रासायनिक शस्त्र निषेध संगठन की जांच का इंतजार किए बिना ही उन्होंने सैन्य हमला कर दिया।