संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद ने हिंसा को लेकर गाजा की चिंताओं को सुना

एएफपी, संयुक्त राष्ट्र

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद ने आज आपात वार्ता के दौरान गाजा पट्टी में इस्रइल- फलस्तीनंिहसा के और बढने की चिंताओं के बारे में सुना। हालांकि हिंसक झड़पों पर संयुक्त बयान जारी करने पर सहमति नहीं बन पाई।
         
एक प्रवक्ता ने बताया कि संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुतारेस ने‘‘ स्वतंत्र और निष्पक्ष जांच’’  का भी आह्वान किया और शांति प्रयासों को फिर से शुरू करने को लेकर वि निकाय की तत्परता को दोहराया।
         
कुवैत ने गाजा में अस्थिरता की स्थिति पर चर्चा करने के लिए बैठक बुलाने का अनुरोध किया था जिसमें फलस्तीन ने कहा कि वर्ष 2014 के गाजा युद्ध के बाद से इजरायल की ओर से एक ही दिन में अब तक की सबसे घातक हिंसा में16  लोग मारे गए।
          
राजनीतिक मामलों के सहायक संयुक्त राष्ट्र महासचिव ताये ब्रूक जेरिहोउन ने कहा, ‘‘इस बात का डर है कि आने वाले दिनों में स्थिति और बिगड़ सकती है।’’
         
अमेरिका में इजरायल के राजदूत डेनी डेनन ने बैठक से पहले एक लिखित बयान में हिंसा के लिए हमास को जिम्मेदार ठहराया।
          
गौरतलब है कि गाजा पट्टी के हजारों निवासियों ने फलस्तीनी शरणार्थियों के लौटने के अधिकार की मांग करते हुए इस्रइली सीमा की ओर मार्च किया था जिसके बाद हिंसा भड़क उठी।
         
इस्रइली सैनिकों ने फलस्तीनियों को रोकने के लिए आंसू गैस के गोले दागे और गोलियां चलाई।     
    
गाजा में स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताया कि इस्रइली सेना की कार्रवाई में 16  फलस्तीनी मारे गए और 1,400  से अधिक घायल हो गए।