विकास कार्यो में कोई लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जाएगी: योगी

भाषा, वाराणसी

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने वाराणसी में निर्माणाधीन दीनापुर सीवरेंज ट्रीटमेंट प्लान्ट के निर्माण कार्य की धीमी प्रगति पर गहरी नाराजगी जताते हुए गंगा प्रदूषण नियंत्रण इकाई के परियोजना प्रबन्धक को कड़ी फटकार लगाई है और साथ ही यह कार्य करा रही कम्पनी के विरुद्ध प्राथमिकी दर्ज करने का निर्देश दिया है।     

इसके साथ ही उन्होंने शाही नाला के सफाई का काम भी बार-बार समय सीमा बढ़ाये जाने के बावजूद पूरा न होने पर श्रीराम ईपीसी लि. के विरुद्ध एफआईआर कराये जाने का निर्देश दिया। उन्होंने गंगा प्रदूषण नियंत्रण इकाई के परियोजना प्रबन्धक को कड़ी चेतावनी देते हुए उन्हें व्यक्तिगत तौर पर काम में रूचि लेने और संबंधित कम्पनियों से युद्ध स्तर पर अभियान चलाकर कार्य पूरा कराने का निर्देश दिया।     

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ अपने एक दिवसीय वाराणसी दौरे के दौरान रविवार को सर्किट हाउस में अधिकारियों के साथ जिले में संचालित परियोजनाओं की प्रगति की समीक्षा कर रहे थे। उन्होंने गोइठहा सीवरेंज ट्रीटमेंट प्लान्ट को भी अभियान चलाकर शीघ्र पूरा कराने का निर्देश दिया। साथ ही सारनाथ में निर्माणाधीन वाटर ट्रीटमेंट प्लान्ट को भी शीघ्र पूरा कराये जाने पर जोर दिया। उन्होने आईपीडीएस के अधिकारियों को सड़कों की बेवजह खुदाई नहीं करने का भी निर्देश दिया।      

मुख्यमंत्री ने कहा कि कोई भी काम कराने के लिए सड़कों का छोटा छोटा हिस्सा लिया जाए तथा कार्य पूरा हो जाने के पश्चात् सड़कों को पूरी तरह समतल किया जाए उसके बाद ही दूसरे स्थान पर काम कराने के लिए खुदाई की जाए। उन्होंने नगर की सफाई व्यवस्था पर एक बार फिर नाराजगी जतायी। पुलिस लाइन से सर्किट हाउस आते समय सड़क के किनारे कूड़े के ढेर एवं गंदगी पर उनकी नजर पड़ी थी। उन्होने इसका हवाला देते हुए नगर आयुक्त को नगर की सफाई व्यवस्था युद्स्तर पर अभियान चलाकर कराने का निर्देश दिया और इसकी रोजाना निगरानी के लिये अधिकारियों की टीम गठित किये जाने पर विशेष जोर दिया।    

इससे पूर्व मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कैथी स्थित मारकण्डेय महादेव मंदिर में एवं बैठक के पश्चात् श्री काशी विश्वनाथ मंदिर में विधिवत् दर्शन पूजन किया।    
इससे पूर्व मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सर्किट हाउस में अधिवक्ताओं के प्रतिनिधि मंडल से भी वार्ता की।