वापस आएं भारतीय

,

अमेरिका ने अपने देश में वीजा अवधि समाप्त होने के बाद भी वहां रुके रहने वालों की जो संख्या जारी की है, उसमें भारतीयों का नम्बर दसवां है। इसका अर्थ हुआ कि वीजा अवधि खत्म होने के बाद स्वाभाविक रूप से अमेरिका न छोड़ने वाले हर दस में से एक व्यक्ति भारतीय है। यह खबर भारत के लिए इसलिए महत्त्वपूर्ण है, क्योंकि आम तौर पर भारतीय इस मामले में अनुशासित माने जाते हैं। इस समय अमेरिका में ट्रंप प्रशासन ने अपने यहां आने वाले विदेशियों को लेकर कुछ ज्यादा ही कड़ा रु ख अपनाया हुआ है।

यहां तक कि शरणार्थियों के संबंध में भी ट्रंप प्रशासन में संवेदनहीनता देखी गई है। पिछले दिनों दुनिया भर से आने वाले अवैध अप्रवासियों के साथ जो अमानवीय व्यवहार अमेरिका ने किया, उसकी आलोचना पूरी दुनिया में हुई। लेकिन इससे ट्रंप की नीतियां बदली नहीं हैं। अब इस समय अमेरिका का आंतरिक सुरक्षा मंत्रालय इस बात पर काम कर रहा है कि वीजा अवधि खत्म होने के बाद कितने विदेशी उसके यहां रु के हुए हैं, या जिनके बारे में कोई जानकारी नहीं है। वैसे, इसमें कोई समस्या नहीं है।

ज्यादातर देश इसके प्रति सतर्क रहते हैं कि उनके यहां नियम-कानून के तहत वीजा लेकर आने वाले भी नियत समय में वापस चले जाएं। सामान्य नियम तो यही है कि वीजा अवधि खत्म होने से पहले विदेशी वहां से चले जाएं। जो जानकारी अमेरिका दे रहा है, उसके अनुसार सभी देशों के करीब सात लाख वीजाधारक वीजा अवधि खत्म होने के बाद अवैध रूप से अमेरिका में रु के हैं। वैसे, भारत का नम्बर 10वां अवश्य है, लेकिन संख्या अधिक नहीं है। अमेरिकी आंतरिक सुरक्षा मंत्रालय की रिपोर्ट के अनुसार कुल मिलाकर इनकी संख्या 21 हजार के आसपास होती है।

अगर भारतीयों संबंधी आंकड़ों का विश्लेषण करें तो ये अलग-अलग श्रेणियों की वीजा पर अमेरिका गए थे। ऐसे सभी वीजा की निश्चित अवधि होती है। वे वहां क्यों रु के हैं, इसके कारण साफ नहीं हैं। हो सकता है कुछ लोग वीजा अवधि बढ़वाने की भी कोशिश कर रहे हों। भले कुल रु के लोगों की संख्या में ये ज्यादा नहीं हैं, किंतु एक भी भारतीय का नाम इसमें आना अच्छा नहीं है। आंकड़ा सामने आने के बाद हमारा मानना यही है कि या तो ऐसे लोग अपनी वीजा अवधि बढ़ाने के लिए आवेदन करें या फिर अमेरिका छोड़ दें। यह भारत की छवि का प्रश्न है। भारत आज ऐसा देश नहीं हैं कि जहां के किसी निरपराध व्यक्ति को किसी दूसरे देश में आश्रय की जरूरत हो।