लार्डस में हार के बाद निशाने पर आए कोहली और उनकी टीम, दिग्गज क्रिकेटरों ने लगाई लताड़

भाषा, नई दिल्ली

इंग्लैंड के खिलाफ पहले दो टेस्ट में भारतीय टीम के घुटने टेकने की देश के पूर्व दिग्गज क्रिकेटरों से कड़ी आलोचना की है लेकिन साथ ही उम्मीद जताई कि टीम वापसी करने में सफल रहेगी।          

वीरेंद्र सहवाग, बिशन सिंह बेदी और वीवीएस लक्ष्मण उन क्रिकेटरों में शामिल हैं जिन्होंने दूसरे टेस्ट में इंग्लैंड को चुनौती नहीं दे पाने के लिए टीम को लताड़ लगाई है। भारत को दूसरे टेस्ट में पारी और 159 रन से हार का सामना करना पड़ा जिससे टीम पांच मैचों की श्रृंखला में 0-2 से पिछड़ गई है।          

सहवाग ने ट्वीट किया, ‘‘भारत का काफी खराब प्रदर्शन। हम सभी उस समय अपनी टीम के साथ खड़ा होना चाहते हैं और उसका समर्थन करना चाहते हैं जब वह अच्छा नहीं कर रही हो लेकिन बिना प्रतिस्पर्धा के हारते हुए देखना निराशाजनक है। उम्मीद करता हूं कि उनमें इसके बाद वापसी करने का आत्मविास और मानसिक मजबूती है।’’

पूर्व भारतीय स्पिनर बेदी ने टीम की कड़ी आलोचना करते हुए लिखा, ‘‘लार्डस में बेहद खराब प्रदर्शन। भारतीय क्रिकेट के साथ किसी भी तरह से जुड़े व्यक्ति को पता है कि समस्या की जड़ क्या है।’’     
     
लक्ष्मण ने उम्मीद जताई कि भारत 18 अगस्त से नाटिंघम में शुरू हो रहे तीसरे टेस्ट से पूर्व अपनी गलतियों से सबक लेगा। उन्होंने लिखा, ‘‘प्रतिकूल हालात में फंस गए, विरोधी टीम को अधिक तवज्जो नहीं दे रहा लेकिन भारत ने बिना कड़ी चुनौती पेश किया लार्डस टेस्ट आसानी से गंवा दिया। उम्मीद करता हूं कि तेजी से सबक सीखा जाएगा और आगामी मैचों में बल्लेबाज बेहतर जज्बे के साथ खेलेंगे।’’         

पूर्व भारतीय बल्लेबाज मोहम्मद कैफ ने कहा कि टीम का प्रदर्शन निराशाजनक था। कैफ ने कहा, ‘‘दो पारियों में भारतीय टीम 82 ओवर ही खेल सकी। यह देखना निराशाजनक है कि वे गलतियों से सीख नहीं ले रहे। इस मैच में सभी विभागों में बुरी तरह पिछड़ गए। सबसे निराशाजनक चुनौती पेश नहीं कर पाना रहा। यह देखना काफी पीड़ादायक है। किसी बल्लेबाज में आत्मविास नजर नहीं आया।’’          

एक अन्य पूर्व बल्लेबाज विनोद कांबली ने कहा कि अगले टेस्ट से पूर्व भारत को काफी सोच विचार करने की जरूरत है।  उन्होंने कहा, ‘‘इस पूरे मैच में हमारा रवैया रक्षात्मक रहा। हमने अपना स्वाभाविक शाट खेलने वाला खेल नहीं खेलकर इंग्लैंड के गेंदबाजों को हावी होने का मौका दिया। आगामी

दिनों में टीम इंडिया के रणनीतिकारों को काफी विचार विमर्श करना होगा।’’