रूस से संबंध की जांच में ट्रंप के पूर्व सलाहकार को जेल

एएफपी, वाशिंगटन

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के पूर्व सलाहकार को एफबीआई से झूठ बोलने के मामले में शुक्रवार को जेल की सजा दी गई है। उनके रूस से संपर्क की वजह से ही मास्को के साथ संभावित सांठगांठ की जांच शुरू की गई थी।
अमेरिकी जिला न्यायाधीश रैंडोल्फ मॉस ने विदेशी नीति सहायक जॉर्ज पापाडोपोलस को उनके इकबालिया जुर्म और पछतावे को मानते हुए उन्हें 14 दिन की जेल की सजा सुनाई लेकिन कहा उन्होंने एक ऐसी जांच में झूठ बोला जो देश की सुरक्षा के लिए अहम है। रूस से मिलीभगत को लेकर विशेष अधिवक्ता की जांच में जेल की सजा पाने वाले पापाडोपोलस दूसरे व्यक्ति हैं। इससे पहले, ट्रंप के पूर्व शीर्ष सहायक को दोषी ठहराया गया था।
राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा है कि यह दोषसिद्धियां उस जांच के लिए कुछ भी नहीं है जिसपर लाख डॉलर का खर्च आया है। उन्होंने इस बात पर ध्यान नहीं दिया है 35 लोगों को आरोपित किया गया है जबकि पांच ने इकबाल-ए-जुर्म किया है और एक को मुकदमा चलाकर दोषी करार दिया गया है। ट्रंप ने ट्वीट किया, 2.8 करोड़ डॉलर के बदले 14 दिन यानी 20 लाख डॉलर प्रतिदिन। कोई साठगांठ नहीं है। अमेरिका के लिए एक बड़ा दिन। सीनेटर मार्क वार्नर ने मूलर के काम की सराहना की है। वार्नर सीनेट की खुफिया समिति में डेमोक्रेटिक पार्टी के वरिष्ठ सदस्य हैं। इसने भी रूस के साथ साठगांठ की जांच की थी। वार्नर ने कहा, राष्ट्रपति की ओर से लगातर हमलों के बावजूद मूलर और उनकी टीम ने 2016 में ट्रंप के प्रचार अभियान की रूस के साथ संपर्क की गंभीर और पेशेवर जांच की है।
पापाडोपोलस (31) लंदन के एक अनुभवहीन तेल विशेषज्ञ हैं। वह मार्च 2016 में रिपब्लिकन पार्टी के उम्मीदवार ट्रंप के प्रचार अभियान में राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार बोर्ड में शामिल हुए थे।