यूपी के देवरिया में मुजफ्फरपुर जैसा कांड, बालिकागृह से छुड़ाई गईं 24 लड़कियां

भाषा , देवरिया

उत्तर प्रदेश के देवरिया स्थित एक बालिका आश्रयगृह में यौन शोषण के आरोपों के बाद 24 लड़कियों को मुक्त कराया गया है। वहीं 18 लड़कियां लापता हैं। पुलिस ने आज यह जानकारी दी।

उन्होंने बताया कि आश्रयगृह के संचालकों गिरिजा त्रिपाठी, उसके पति मोहन त्रिपाठी और इसकी अधीक्षक कंचनलता को गिरफ्तार किया गया है।          

पुलिस अधीक्षक रोहन पी. कनय ने आज बताया, ‘‘स्टेशन रोड़ स्थित मां विंध्यवासिनी महिला प्रशिक्षण और समाज सेवा संस्थान द्वारा संचालित आश्रयगृह से कल शाम 24 लड़कियों को मुक्त कराया गया है। इसमें कुल 42 लोग रहते थे। 18 लड़कियां अभी भी लापता हैं।’’     

पूरी घटना की जानकारी उस वक्त मिली जब आश्रयगृह में रहने वाली एक लड़की महिला थाने पहुंची और लड़कियों की दयनीय हालत के बारे में जानकारी दी।      

लड़की ने बताया, ‘‘कई बार सफेद, काले और लाल रंग की कारें आती हैं और लड़कियों को ले जाती हैं। जब लड़किया सुबह लौटती हैं तो वे रोती हैं।’’       

देवरिया के पुलिस अधीक्षक ने बताया कि उन्हें पुलिस मुख्यालय से दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने के निर्देश मिले थे।      

इस बीच, प्रदेश के अपर पुलिस महानिदेशक (कानून-व्यवस्था) आनंद कुमार ने कहा कि इस पूरे प्रकरण की गहराई से जांच की जाएगी। उसमें रहने वाले बच्चों का मेडिकल परीक्षण किया जाएगा। पाक्सो कोर्ट के सामने उनके बयान दर्ज कराए जाएंगे। विधिवत कार्रवाई की जाएगी।’’     

प्रदेश की महिला और परिवार कल्याण मंत्री रीता बहुगुणा जोशी ने कहा कि उनके विभाग ने उस आश्रयगृह की मान्यता समाप्ति के आधार पर उसे बंद करने के आदेश दिये थे। विभाग ने पिछले दिनों इस मामले में एक मुकदमा भी दर्ज कराया था। जो घटना सामने आयी है, वह गम्भीर है। सच्चाई सामने आयेगी और इस पर कड़ी से कड़ी कार्रवाई होगी।