मोदी सरकार की कैशलेस इकोनॉमी को झटका

भाषा, नई दिल्ली

देश में इस समय जनता के हाथ में मुद्रा का स्तर 18.5 लाख करोड़ रुपए से ऊपर पहुंच गया है जो इसका अब तक अधिकतम स्तर है। यह नोटबंदी के दौर की तुलना में दोगुने से अधिक है।

नोटबंदी के बाद जनता के हाथ में मुद्रा सिमट कर करीब 7.8 लाख करोड़ रुपए रह गई थी। भारतीय रिजर्व बैंक के आंकड़ों से यह जानकारी सामने आई है।

आरबीआई के मुताबिक इस समय चलन में कुल मुद्रा 19.3 लाख करोड़ रुपए से अधिक है जबकि नोटबंदी के बाद यह आंकड़ा लगभग 8.9 लाख करोड़ रुपए था। चलन में मौजूद कुल मुद्रा में से बैंकों के पास पड़ी नकदी को घटा देने पर पता चलता है कि चलन में कितनी मुद्रा लोगों के हाथ में पड़ी है।

उल्लेखनीय है कि कुछ महीने पहले देश के विभिन्न हिस्सों में नकदी संकट खबरें आई थी जबकि इसके विपरीत लोगों के पास बड़ी मात्रा में नकदी मौजूद है।

गौरतलब है कि नोटबंदी के बाद करीब 99 प्रतिशत मुद्रा बैंकिंग प्रणाली में वापस आ गई थी। ताजा आंकड़ों के मुताबिक मई 2018 तक लोगों के पास 18.5 लाख करोड़ रुपए से अधिक की मुद्रा थी, जो कि एक वर्ष पहले की तुलना में 31 प्रतिशत अधिक है। यह 9 दिसंबर 2016 के आंकड़े 7.8 लाख करोड़ रुपए के दोगुने से अधिक है।