मुजफ्फरपुर कांड पर CM नीतीश बोले- दोषी कोई भी हो बख्शा नहीं जायेगा

वार्ता, पटना

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने आज कहा कि मुजफ्फरपुर बालिका अल्पावास गृह में बच्चियों के साथ बलात्कार के मामले में मंत्री हों या कोई और, जो भी दोषी पाया जायेंगे उसे बख्शा नहीं जायेगा।

कुमार ने यहां अपने सरकारी आवास पर आयोजित ‘लोक संवाद’ कार्यक्रम के बाद संवाददाता सम्मेलन में कहा कि राज्य सरकार के निर्देश पर गैर सरकारी संगठनों (एनजीओ) का सामाजिक अंकेक्षण करने वाले टाटा इंस्टीट्यूट ऑफ सोशल साइंस (टीआईएसएस) की रिपोर्ट से मुजफ्फरपुर के बालिका गृह में दुष्कर्म का खुलासा हुआ। इससे पहले सरकार को इस बारे में किसी ने कोई जानकारी नहीं दी थी। सरकार ने जानकारी मिलते ही कार्रवाई की। इस मामले में बिहार पुलिस अच्छा काम कर रही थी लेकिन भ्रम की स्थिति न रहे इसलिए इसकी जांच केन्द्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) से कराने की अनुशंसा की गयी। साथ ही सरकार ने उच्च न्यायालय से इस मामले की जांच की निगरानी करने का भी अनुरोध किया है।
     
मुख्यमंत्री ने कहा कि मुजफ्फरपुर अल्पावास गृह की निगरानी के लिए समाज कल्याण विभाग के जो भी अधिकारी जिम्मेवार थे, उन्हें तत्काल निलंबित कर दिया गया है और उनके खिलाफ विभागीय कार्रवाई शुरू की जा रही है।

उन्होंने समाज कल्याण मंत्री मंजू वर्मा के इस्तीफे के संबंध में पूछे जाने पर कहा कि इस मामले में जो कोई मंत्री जिम्मेदार होगा, उसके खिलाफ कार्रवाई होगी। लेकिन, इस मामले में मंत्री वर्मा से उन्होंने पहले ही दिन स्पष्टीकरण मांगा था। इस पर वर्मा ने इस मामले में कोई भी भूमिका होने से इनकार कर दिया था।

बिहार में बच्चों से जुड़े सुधार या कल्याण गृहों का संचालन एनजीओ नहीं करेगा : नीतीश

बिहार के मुजफ्फरपुर बालिका अल्पावास गृह में बच्चियों के साथ बलात्कार की घटना से सबक लेते हुए सरकार ने बच्चों से जुड़े सभी सुधार या कल्याण गृहों का संचालन खुद करने का फैसला लिया है।

कुमार ने कहा कि अब राज्य में बच्चों से जुड़े सभी सुधार या कल्याण गृहों का संचालन किसी भी गैर-सरकारी संगठन (एनजीओ) के जरिए नहीं होगा। राज्य सरकार ऐसे सुधार या कल्याण गृहों का संचालन खुद करेगी।

उन्होंने कहा कि राज्य के मुख्य सचिव को इस संबंध में योजना बनाने और जल्द से जल्द बालक-बालिका गृह निर्माण तथा जरूरी कर्मचारियों की भी नियुक्ति करने का निर्देश दिया गया है। उन्होंने कहा कि अधिकारियों को यह भी निर्देश दिया गया है कि वे मुजफ्फरपुर अल्पावास गृह की बच्चियों के लिए तत्काल कोई अलग मकान की व्यवस्था करायें ताकि उन्हें जल्द से जल्द वहां रखा जा सके।
      
मुख्यमंत्री ने कहा कि मुजफ्फरपुर मामले पर कुछ लोग प्रवचन तो बहुत देते हैं लेकिन प्रवचन देने वाले यह भी बता दें कि पूरे देश में (सुधार गृहों की) क्या स्थिति है। उन्होंने मुजफ्फरपुर की घटना के 72 दिन बाद शनिवार को दिल्ली में हुए नौ विपक्षी दलों के धरना के संबंध में पूछे जाने पर कहा कि क्या कोई ऐसे मुद्दे पर हंसते हुए धरना देता है और क्या यह धरना इनके लिए (बच्चियों की सुरक्षा के लिए) हो रहा था। सब जानते हैं कि धरना क्यों दिया जा रहा था। ऐसे धरनों में क्या कोई मुस्कुराते हुए कैंडल जलाता है।