महिला हॉकी वर्ल्ड कप: प्लेऑफ मुकाबले में इटली से भिड़ेगा भारत

आईएएनएस, लंदन

भारतीय महिला हॉकी टीम आज विश्व कप के प्लेऑफ मुकाबले में इटली का सामना करेगी। भारत के लिए यह मैच करो या मरो का है क्योंकि हार टूर्नामेंट में भारतीय टीम का सफर समाप्त कर देगी। इस मैच में जीत हासिल कर ही टीम अंतिम-8 में प्रवेश कर पाएगी।

भारतीय महिला हॉकी टीम की कप्तान रानी का कहना है कि अगर उनकी टीम को हॉकी विश्व कप के क्वार्टर फाइनल में पहुंचना है, तो सभी खिलाड़ियों को इटली के खिलाफ प्लेऑफ में बेहतरीन प्रदर्शन करना होगा।

पूल-बी में शामिल भारतीय टीम का इंग्लैंड के खिलाफ पहला मैच 1-1 से ड्रॉ रहा था, वहीं आयरलैंड के खिलाफ दूसरे मैच में उसे हार का सामना करना पड़ा था। अमेरिका को ड्रॉ पर रोकते हुए भारतीय टीम तीसरे स्थान पर रही और इस कारण वह प्लेऑफ में स्थान हासिल कर सकी।

कप्तान रानी ने सोमवार को कहा, "हमें स्वयं पर ध्यान देने, अपनी क्षमता को बढ़ाने और इटली के खिलाफ अपने सकारात्मक खेल को दशार्ने की जरूरत है। इसमें कोई शक नहीं है कि यह प्लेऑफ मैच हमारे लिए करो या मरो का मुकाबला है। अगर हमें क्वार्टर फाइनल में कदम रखना है, तो हमें अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करना होगा।"

इटली ने पूल स्तर पर खेले गए अपने मैचों में चीन के खिलाफ 3-0 से, दक्षिण कोरिया के खिलाफ 1-0 से जीत हासिल की है। हालांकि, उसे अंतिम मैच में नीदरलैंड्स के खिलाफ 1-12 से हार का सामना करना पड़ा।

ऐसे में देखा जाए, तो भारत के लिए इटली के खिलाफ होने वाला मैच आसान नहीं होगा। क्वार्टर फाइनल में पहुंचने के लिए उसका संघर्ष बेहद मुश्किल होने वाला है।

ऐसे में कप्तान रानी अपनी टीम को सलाह देते हुए कहा कि इटली को एक कड़े प्रतिद्वंद्वी के रूप में देखना होगा। इसके साथ ही इस मैच के लिए वह 2015 हॉकी विश्व कप में इटली के खिलाफ खेले गए मैच से प्रेरणा ले सकते हैं। इस मैच में भारतीय टीम ने इटली को सेमीफाइनल मुकाबले में मात दी थी।

रानी ने कहा, "इटली एक अच्छी टीम है और उन्होंने भी इस टूनार्मेंट में अपनी जीत का पूरा मजा उठाया है। हमें खुद पर भरोसा करते हुए इटली के खिलाफ मैच में उतरना होगा। भरोसा कि हम इटली को हरा सकते हैं और ऐसे में हम 2015 विश्व कप सेमीफाइनल मैच से प्रेरणा ले सकते हैं।"