मक्का मस्जिद मामले में कोर्ट का फैसला हिन्दू-द्रोहियों के मुंह पर तमाचा: विहिप

आईएएनएस , नयी दिल्ली

विश्व हिन्दू परिषद के अंतरराष्ट्रीय कार्याध्यक्ष एडवोकेट आलोक कुमार ने मक्का मस्जिद विस्फोट मामले में आए अदालत के फैसले पर संतोष व्यक्त करते हुए इसे हिन्दू द्रोही कांग्रेस नीत यूपीए सरकार के मुंह पर करारा तमाचा करार दिया है।

कुमार ने सोमवार को जारी एक बयान में कहा, "हिन्दू आतंकवाद का सगूफा रचकर निर्दोष हिन्दुओं को फंसाने के षडयंत्र की आड़ में विस्फोट करने वाले वास्तविक अपराधियों को बचा ले गई तत्कालीन कांग्रेस सरकार। असली अपराधियों के छूटने पर यदि कोई सर्वाधिक प्रसन्न हुआ था, तो वह था पाकिस्तान, जिसके लोग आसानी से भागने में सफल रहे।"

विहिप के राष्ट्रीय प्रवक्ता विनोद बंसल की तरफ से जारी बयान में कुमार ने यह भी कहा है कि इस फैसले से मुस्लिम तुष्टीकरण की आड़ में हिन्दुओं को दोयम दर्जे का नागरिक और जांच एजेंसियों को राजनैतिक मोहरा बनाने की तत्कालीन सरकार की घृणित नीति की भी कलई खुल गई है।

गौरतलब है कि हैदराबाद के ऐतिहासिक चारमीनार के पास जुमे की नमाज के दौरान 11 साल पहले हुए बम विस्फोट के मामले में एनआईए की विशेष अदालत ने सोमवार को एक अहम फैसले में सभी पांच आरोपियों को बरी कर दिया। विस्फोट में नौ लोग मारे गए थे और 50 से अधिक लोग घायल हो गए थे।