भारत के कॉरपोरेट से ज्यादा उद्यमी हैं किसान, खोमचावाले : देबरॉय

आईएएनएस, कोलकाता

प्रधानमंत्री की आर्थिक सलाकार परिषद के अध्यक्ष बिबेक देबरॉय ने शुक्रवार को कहा कि भारत के छोटे किसान और गलियों के खोमचावाले देश के कॉरपोरेट सेक्टर से कहीं ज्यादा उद्यमशील हैं। आईएमआई कोलकाता के छठे दीक्षांत समारोह को संबोधित करते हुए देबरॉय ने कहा, "उद्यमिता सिखाई नहीं जा सकती है, लेकिन हुनर सिखाई जा सकती है। मैं आपको बताउं कि भारत का कॉरपोरेट सेक्टर जितनी उद्यमशीलता दिखाते हैं उससे कहीं ज्यादा उद्यमशील छोटे किसान हैं। मैं आपको याद दिलाउं कि भारत की गलियों में गरीब खोमचावाले देश के कॉरपोरेट सेक्टर से कहीं ज्यादा उद्यमी हैं।"

उन्होंने कहा कि नाकामयाब को प्रोत्साहित किए बगैर उद्यमिता को प्रोत्साहन नहीं दिया जा सकता है।

देबरॉय ने कहा, "हम उद्यमिता की सफलता के बार में सोचते हैं जबकि 95 फीसदी उद्यमी प्रयास विफल हो जाते हैं।"

नीति आयोग के सदस्य देबरॉय ने भारतीय शिक्षा प्रणाली में उद्यमिता के लिए सक्षम वातावरण मुहैया करवाने की जरूरत बताई।

उन्होंने कहा, "जब प्रधानमंत्री स्टार्ट-अप इंडिया की बात करते हैं तो इसमें कॉरपोरेट सेक्टर की बात नहीं होती है बल्कि उद्यमिता की बात होती है।"

उन्होंने 1991 में भारत में उदारीकरण का दौर आने के बाद अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) द्वारा जारी एक रिपोर्ट का जिक्र करते हुए कहा कि रिपोर्ट में कहा गया कि भारत जैसे देश को विकसित देशों की प्रति व्यक्ति आय के आधे के अंतर को पूरा करने में 153 साल लग जाएंगे।

उन्होंने कहा, "पिछले कुछ दशकों से जो सीख मिली है वह यह है कि 153 साल तक इंतजार करने की जरूरत नहीं है।"