भारत, कंबोडिया में दो समझौते

भाषा, नोम पेन

विदेशमंत्री सुषमा स्वराज ने अपने कंबोडियाई समकक्ष प्राक सोकोन से मुलाकात कर द्विपक्षीय, बहुपक्षीय और प्रमुख अंतरराष्ट्रीय मुद्दों पर चर्चा की और दोनों देशों के बीच सहयोग बढ़ाने के लिए दो समझौतों पर हस्ताक्षर किए।
दो देशों की चार दिवसीय यात्रा के अंतिम चरण में कंबोडिया पहुंची स्वराज ने यहां विदेश मंत्रालय में सोकोन के साथ प्रतिनिधिमंडल स्तरीय वार्ता की। इस दौरान दोनों मंत्रियों ने द्विपक्षीय, बहुपक्षीय और महत्वपूर्ण अंतरराष्ट्रीय मुद्दों पर चर्चा की। नोम पेन स्थित भारतीय दूतावास ने ट्वीट किया है, प्रतिनिधिमंडल स्तरीय वार्ता के दौरान दोनों मंत्रियों ने द्विपक्षीय, बहुपक्षीय और महत्वपूर्ण अंतरराष्ट्रीय मुद्दों पर चर्चा की।
स्वराज बुधवार को कंबोडिया के प्रधानमंत्री हुन सेन और सीनेट (देश की संसद) के अध्यक्ष से चुम से भी मिलेंगी। वियतनाम से होते हुए स्वराज मंगलवार को कम्बोडिया पहुंची थीं। दोनों देशों के बीच पहला समझौता कंबोडिया के प्री विहार स्थित भगवान शिव के मंदिर और वि विरासत स्थल की मरम्मत और संरक्षण को लेकर हुआ। प्री विहार मंदिर 11वीं सदी के पहले भाग में बना हुआ है। यह प्राचीन शिव मंदिर है।
दूसरे सहमतिपत्र पर भारत के विदेश सेवा संस्थान (एफएसआई) और कंबोडिया के नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ डिप्लोमेसी एंड इंटरनेशनल रिलेशंस ने हस्ताक्षर किए। आसियान के दो महत्वपूर्ण देशों के, स्वराज के इस दौरे को दक्षिणपूर्वी एशियाई क्षेत्र में चीन के बढ़ते प्रभाव के मद्देनजर संतुलन बनाने की भारत की कोशिश के तौर पर देखा जा रहा है।