बिहार में शराब के बाद अब खैनी पर भी लगेगी रोक

वार्ता, पटना

बिहार सरकार राज्य में खैनी (तंबाकू) की खेती, बिक्री और उसके इस्तेमाल पर रोक लगाने के लिए आवश्यक कार्रवाई करने की तैयारी कर रही है।
    
स्वास्थ्य विभाग के प्रधान सचिव संजय कुमार ने आज यहां बताया कि राज्य सरकार खैनी को खाद्य उत्पादों की सूची में शामिल करने के लिए भारतीय खाद्य संरक्षा एवं मानक प्राधिकरण (एफएसएसएआई) को पत्र लिखेगी। उन्होंने बताया कि एक बार खाद्य उत्पाद की सूची में शामिल हो जाने के बाद राज्य में इस तंबाकू की खेती, बिक्री और उसके इस्तेमाल को प्रतिबंधित किया जा सकेगा।

कुमार ने कहा कि खैनी के इस्तेमाल को प्रतिबंधित करने से लोगों का इससे होने वाली बीमारी के इलाज पर होने वाला खर्च बच जाएगा।

उल्लेखनीय है कि पिछले कुछ वर्षों के दौरान बिहार में तंबाकू के इस्तेमाल में कमी आई है लेकिन अभी भी राज्य की कुल जनसंख्या का 25.9 प्रतिशत लोग तंबाकू का इस्तेमाल करते हैं। 23.7 प्रतिशत लोग चबाने वाले तंबाकू (गुटखा) और 20.4 प्रतिशत लोग खैनी का सेवन करते हैं।