प्रेस कांफ्रेंस में छलके स्मिथ के आंसू, मांगी माफी

भाषा, सिडनी

स्टीव स्मिथ ने आज दक्षिण अफ्रीका में गेंद से छेड़छाड़ प्रकरण की पूरी जिम्मेदारी ली जिससे उनकी छवि दागदार हुई और उन्होंने कहा कि वह काफी निराश है और पूरी जिंदगी उन्हें इस घटना का मलाल रहेगा।
         
क्रिकेट आस्ट्रेलिया( सीए)  ने इस 28  वर्षीय बल्लेबाज पर एक साल के लिये प्रतिबंध लगाया और उनकी कप्तानी छीन ली। स्मिथ आज दक्षिण अफ्रीका से सिडनी पहुंचने के बाद पांच मिनट की प्रेस कांफ्रेंस में बार-बार रोते रहे।     
    
निराश स्मिथ खचाखच भरी प्रेस कांफ्रेस में खुद पर संयम बनाये रखने की कोशिश कर रहे थे। लेकिन उनकी आंखों में बार बार आंसू आये जा रहे थे। उन्होंने कहा, ‘‘आस्ट्रेलियाई क्रिकेट टीम के कप्तान के तौर पर मैं इसकी पूरी जिम्मेदारी लेता हूं। मैंने फैसला करने में काफी गंभीर गलती की और अब मुझे इसका परिणाम समझ आ रहा है। मेरी कप्तानी में यह असफलता रही।’’     

 

 

 


 उन्होंने कहा, ‘‘इससे हुए नुकसान की भरपायी और अपनी गलती को सुधारने के लिये मैं सब कुछ करूंगा। अगर इससे कुछ भला होता है और अगर इससे दूसरों को सबक मिलता है तो मैं उम्मीद करता हूं कि मैं यह बदलाव कर पाऊंगा। मुझे पता है कि मुझे पूरी जिंदगी इसका पछतावा रहेगा। मैं बहुत निराश हूं।’    
    
स्मिथ ने कहा, ‘‘मैं उम्मीद करता हूं कि समय के साथ मुझे माफी मिल जायेगी और मैं वो सम्मान हासिल कर लूंगा। आस्ट्रेलियाई क्रिकेट टीम की कप्तानी करना मेरे लिये सम्मान की बात रही है। क्रिकेट दुनिया का सबसे शानदार खेल है। यह मेरी जिंदगी रही है और मैं उम्मीद करता हूं कि यह दोबारा हो सकता है। मैं माफी मांगता हूं और बहुत निराश हूं।’’          

 

 

स्मिथ ने हालांकि इस प्रकरण में शामिल होने वाले खिलाड़ियों को दोषी ठहराने से इनकार कर दिया,  उन्होंने कहा कि वह इस समय खुद को ही दोषी मान सकते हैं।   

उन्होंने कहा, ‘‘ अच्छे लोग गलतियां करते हैं। मैंने यह करने की अनुमति देकर बड़ी गलती की। मैंने निर्णय करने में गलती की और मैं माफी मांगता हूं। मेरी जानकारी में यह पहली बार है जब मैंने ऐसा होते हुए देखा है। मैं आपको आश्वस्त कर सकता हूं कि यह दोबारा कभी नहीं होगा।’’      

स्मिथ ने कहा, ‘‘मैं किसी को भी दोषी नहीं ठहराता। मैं आस्ट्रेलियाई टीम का कप्तान हूं और मैं केपटाउन में पिछले शनिवार को जो कुछ हुआ मैं उसकी जिम्मेदारी लेता हूं।’’