प्रधानमंत्री ने इंडिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक लांच किया

आईएएनएस, नई दिल्ली

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को इंडिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक (आईपीपीबी) लांच किया, जिसका लक्ष्य देश के बैंकविहीन ग्रामीण क्षेत्रों तक बैंकिंग सेवाओं को पहुंचाकर वित्तीय समावेशन को मजबूती प्रदान करना है।

पेमेंट्स बैंक फिलहाल 650 डाकघरों और 3,250 एक्सेस प्वाइंट्स पर चालू और बचत खाते की सेवा मुहैया कराएगी।

प्रधानमंत्री ने आईपीपीबी को लांच करते हुए कहा, "इंडिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक वित्तीय समावेशन की प्रक्रिया को आगे बढ़ाएगा, जो साल 2014 में जन धन योजना के लांच करने से शुरू हुआ था।"

संचार मंत्रालय के मुताबिक, इस साल के अंत तक आईपीपीबी के एक्सेस प्वाइंट्स की संख्या बढ़कर 1.55 लाख हो जाएगी, जिनमें से 1.30 लाख शाखाएं ग्रामीण क्षेत्रों में होगी।

मोदी ने कहा, "भारतीय डाक विभाग के पास 1.5 लाख डाकखाने और 3 लाख से अधिक डाकिया हैं। हमने इस तरह के एक व्यापक प्रणाली को जोड़ने के भारी काम को करने के लिए तकनीक का सहारा लिया है। अब डाकिया एक स्मार्टफोन से लैस है और उसके बैग में एक डिजिटल डिवाइस है।"

उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना और महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी योजना के तहत आनेवाले किसान और मजदूर इसके प्रमुख लाभार्थियों में से एक होंगे, क्योंकि उन्हें उनके दावों का भुगतान पेमेंट्स बैंक से किया जाएगा।

संचार मंत्री मनोज सिन्हा के मुताबिक लोग इस बैंक में अपना खाता आधार कार्ड की मदद से महज एक मिनट में खोल सकते हैं और क्विक रेसपांस कार्ड (क्यूआर) कार्ड की मदद से लेन-देन किया जा सकता है, जो उन्हें बैंक की तरफ से मुहैया कराया जाएगा। उन्हें अब अपना खाता नंबर और पासवर्ड भी याद रखने की जरूरत नहीं है।

उन्होंने कहा कि पोस्ट ऑफिस सेविंग्स बैंक के खाता धारकों को भी आईपीपीबी की सेवाएं उन्हें अपने खातों को लिंक करके मिलेगी।

हालांकि भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा पेमेंट्स बैंक को कर्ज और बीमा की सेवाएं शुरू करने की अनुमति नहीं दी गई है। ऐसे में आईपीपीबी ने पंजाब नेशनल बैंक के साथ अपने खाताधारकों को कर्ज मुहैया कराने के लिए समझौता किया है.