पेट्रोल-डीजल की कीमत पर सरकार ने हाथ खड़े किए

सहारा न्यूज ब्यूरो, नई दिल्ली

पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस मंत्री धर्मेन्द्र प्रधान ने आज कहा कि पेट्रोल-डीजल की ऊँची कीमतों के कारण गरीबों और मध्यम वर्ग को होने वाले कष्ट के प्रति सरकार संवेदनशील है, लेकिन उन्होंने उत्पाद शुल्क में कटौती जैसा कोई आश्वासन देने से इनकार करते हुये कहा कि कई चीजें हमारे हाथ में नहीं होतीं।

श्री प्रधान ने यहाँ मंत्रालय की चार साल की उपलब्धियों के प्रचार के लिए आयोजित संवाददाता सम्मेलन में दोनों उत्पादों की कीमतें एक बार फिर पूर्ण या आंशिक रूप से नियंत्रित करने की संभावनाओं से भी इनकार कर दिया।

संवाददाताओं के सवालों के जवाब में उन्होंने कहा पेट्रोल-डीजल के दाम बढ़ने के कई कारण हैं। इनमें भू-राजनीतिक परिस्थितियाँ, अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर कच्चा तेल के दाम, डॉलर तथा अन्य मुद्राओं की तुलना में रुपये की विनिमय दर में उतार-चढ़ाव आदि शामिल हैं। हमारी सरकार संवेदनशील है। पेट्रोलियम पदाथरें की कीमतों के कारण गरीब एवं मध्यम वर्ग के लोगों को कष्ट न हो इसके लिए सरकार उपाय करेगी।

पेट्रोल-डीजल की रिकॉर्ड कीमतों ने जहाँ पहले ही आम लोगों का बजट बिगाड़ा हुआ है, वहीं केंद्रीय मंत्री ने कहा कि सरकार इस बात की जिम्मेदारी लेती है कि वह इनके दाम सामान्य लोगों की पहुँच के बाहर नहीं होने देगी। हालाँकि, सरकार कब, किस स्तर पर दखलअंदाजी करेगी। इसके बारे में उन्होंने अभी बताने से इनकार कर दिया।

सरकार की मजबूरी बताते हुये श्री प्रधान ने कहा पेट्रोलियम पदाथरें के दाम में उतार-चढ़ाव के बारे में कोई भी पूर्वानुमान नहीं लगा सकता। कई चीजें हमारे हाथ में नहीं होतीं। भारतीय जनता पार्टी शासित राज्यों में पेट्रोल-डीजल पर वैट कम करने की संभावना के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि सरकार कोई भी चीज राज्यों पर थोप नहीं सकती।