दुनिया भर में गूंजा गांधी जी का प्रिय भजन 'वैष्णव जन तो तेने कहिए'

वार्ता, नयी दिल्ली

राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की 150 वीं जयंती के मौके पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आज यहां बापू के प्रिय भजन 'वैष्णव जन तो तेने कहिए' का अंतर्राष्ट्रीय संस्करण जारी किया जिसे 124 देशों के कलाकारों एवं संगीत समूहों ने अपने सुरों से सजाया है।

राष्ट्रपति भवन स्थित सम्मेलन स्थल पर महात्मा गांधी अंतर्राष्ट्रीय स्वच्छता सम्मेलन के समापन अवसर पर श्री मोदी ने संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंटोनियो गुटेरस की मौजूदगी ने इस पांच मिनट 34 सेकेंड के वीडियो को जारी किया। विदेश मंत्री सुषमा स्वराज और केन्द्रीय पेयजल एवं स्वच्छता मंत्री उमा भारती भी इस मौके पर मौजूद थीं।

पंद्रहवीं सदी में गुजरात में हुए संत नरसी मेहता द्वारा लिखे इस भजन को गांधी जी की सुबह की एवं संध्या की प्रार्थना सभा में गाया जाता था। इस भजन पर विदेश मंत्रालय द्वारा तैयार इस वीडियो में चुनींदा 41 देशों के कलाकारों की प्रस्तुतियों को पिरोया गया है। विदेश मंत्रालय के सोशल मीडिया प्लेटफॉर्मों पर भी इस वीडियो को जारी किया गया है।

विदेश मंत्रालय के सूत्रो के अनुसार विदेशों में स्थित सभी भारतीय मिशनों को स्थानीय कलाकारों एवं संगीत समूहों की पहचान करने और उनसे गवा कर भजन गांधी जयंती के लिए रिकॉर्ड करने को कहा गया था। इसका परिणाम यह हुआ कि विभिन्न एवं विविधतापूर्ण क्षेीयता का स्पर्श लिये एक जबरदस्त प्रस्तुति तैयार हुई। आम्रेनिया से अंगोला, श्रीलंका से सर्बिया, इराक से आइसलैंड तक के कलाकारों ने स्वर दिये। नौरू के राष्ट्रपति बारोन दिवावेसी वाका ने भी इस भजन को अपना स्वर प्रदान किया।
 
आधिकारिक सूत्रों के मुताबिक भजन के अलावा भी दुनिया के 119 देशों में भारतीय दूतावासों एवं मिशनों के माध्यम से वहां के प्रमुख स्थलों पर महात्मा गांधी के संदेशों को प्रसारित किया जाएगा। अनेक स्थानों पर खासतौर पर एलईडी प्रोजेक्शन स्क्रीन लगा कर गांधी के जीवन दर्शन और उनके प्रमुख वक्तव्यों पर आधारित वीडियो चलाये जाएंगे। उनमें महात्मा गांधी के जीवन के महत्वपूर्ण हिस्सों को कलात्मक ढंग से प्रदर्शित किया जाएगा।
   
सूत्रो के अनुसार दुबई के बुर्ज खलीफा, इटली के पलाजो सेनेटोरियो, जर्मनी के फेस्टिवल ऑफ लाइट, बुल्गारिया के सेंट सोफिया, ब्रिटेन के पिकाडेली सर्कस, अज्रेन्टीना के विधि विविद्यालय, कुवैत के कुवैत टावर्स, फ्रांस के बिब्लिथोक नेशनल डी फ्रांस, ऑस्ट्रिया के वेल्ट म्यूजियम, न्यूयार्क के संयुक्त राष्ट्र भवन में एलईडी लेर प्रोजेक्शन के जरिए गांधी जी के जीवन के विभिन्न पहलुओं को प्रदर्शित किया जाएगा।