दिल्ली सीवर मौत: लापरवाही के लिए सुपरवाइजर गिरफ्तार

सहारा न्यूज ब्यूरो, नई दिल्ली

दिल्ली सरकार ने पश्चिम दिल्ली के मोती नगर इलाके में मलजल शोधन संयंत्र में सफाई के लिए उतरे पांच लोगों की दम घुटने से हुई मौत की घटना के सोमवार को जांच के आदेश दिए। श्रम मंत्री गोपाल राय ने श्रम आयुक्त को निर्देश दिया कि आगे की कार्रवाई तय करने के लिए वह तीन दिन के भीतर जांच रिपोर्ट जमा करें।

मोती नगर में जिन पांच लोगों की मौत हुई उनकी पहचान सरफराज, पंकज, राजा, उमेश और विशाल के रूप में हुई थी।

राय के सचिव विवेक कुमार त्रिपाठी ने आयुक्त को इस आशय का पत्र भेजा है। घटना रविवार दोपहर साढे तीन बजे की है। पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि पीड़ितों को अस्पताल ले जाया गया जहां उन्हें मृत घोषित कर दिया गया। इसके पूर्व भी इस प्रकार की कई घटनाएं राजधानी में घटी हैं। अब श्रम मंत्री ने इस मामले में जांच बिठा दी है।
 

दूसरी ओर  इस मामले में पुलिस ने वहां के सुपरवाइजर अजय को लापरवाही बरतने का दोषी पाए जाने के बाद गिरफ्तार कर लिया है।  जिला पुलिस उपायुक्त मोनिका भारद्वाज ने बताया कि फिलहाल आरोपी से पूछताछ की जा रही है और मामले में आगे की जांच भी जारी है। आगे जांच में दोषी पाए जाने वालों का नाम सामने आने के बाद उनके खिलाफ भी कार्रवाई की जाएगी।

उधर उत्तरी दिल्ली के महापौर आदेश गुप्ता सोमवार डीएलएफ सोसायटी परिसर स्थित घटनास्थल पर पहुंचे और मृतकों के प्रति संवेदना व्यक्त की। उनके साथ मुख्य सचिव अंशु प्रकाश के अलावा स्थानीय पाषर्द और सफाई कर्मचारी आयोग के सदस्य भी थे।

मजदूरों के परिजनों को गैरसरकारी संस्था दलित शोषण मुक्ति मंच ने एक एक करोड़ रुपये का मुआवजा देने की मांग की है। मंच के महासचिव नाथु प्रसाद ने कहा कि अगर दिल्ली सरकार  पीड़ितों के परिवारों को न्याय प्रदान करने में असफल रहती हैं तो  मंच जल्द आंदोलन करेगा।