तारिक अनवर ने राकांपा छोड़ी, लोकसभा की सदस्यता से भी दिया इस्तीफा

भाषा, नयी दिल्ली

राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) के वरिष्ठ नेता तारिक अनवर ने शुक्रवार को कहा कि उन्होंने राफेल मामले में शरद पवार के बयान के विरोध में पार्टी और लोकसभा की सदस्यता से इस्तीफा दे दिया है।         

बिहार के कटिहार से सांसद अनवर ने कहा कि वह अपने संसदीय क्षेत्र से दिल्ली पहुंचने के बाद अगले कदम के बारे में फैसला करेंगे।       

उन्होंने कहा, ‘‘जब राफेल मामले में हुए भ्रष्टाचार के खिलाफ विपक्ष आवाज उठा रहा है तो पवार साहब (राकांपा प्रमुख) प्रधानमंत्री का बचाव करने वाला बयान दे रहे हैं। ऐसे में मैंने पार्टी छोड़ने का फैसला किया।’’       

अनवर ने कहा, ‘‘मैंने लोकसभा की सदस्यता से भी इस्तीफा दे दिया है।’’       

पूर्व केंद्रीय मंत्री अनवर राकांपा के संस्थापक सदस्यों में से एक हैं। सोनिया गांधी के विदेशी मूल का मुद्दा उठाने पर पवार, अनवर और पी ए संगमा को कांग्रेस से निष्कासित कर दिया गया था। इसके बाद तीनों नेताओं ने 25 मई, 1999 को राकांपा का गठन किया था।       

कांग्रेस में वापसी के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा, ‘‘मैं अभी कटिहार में हूं। दिल्ली पहुंचने के बाद अगले कदम के बारे में फैसला करूंगा।’’        

दरअसल, पवार ने राफेल मामले में कहा था कि लोगों को प्रधानमंत्री मोदी की नीयत पर कोई शक नहीं है और राफेल विमान के तकनीकी पहलुओं पर चर्चा करने की विपक्ष की मांग ठीक नहीं है।         

संप्रग सरकार में कृषि मंत्री रहे पवार ने ये भी कहा कि राफेल विमान की कीमत बताने में कोई हर्ज नहीं होना चाहिए।