डॉ वेंकटस्वामी की 100वीं जयंती पर गूगल ने डूडल बनाकर किया याद

वार्ता, नई दिल्ली

सर्च इंजन गूगल ने देश के प्रसिद्ध ने विशेषज्ञ चिकित्सक डॉक्टर गोविंदप्पा वेंकटस्वामी की 100वीं जयंती पर सोमवार को डूडल बनाकर उन्हें याद किया।

गूगल ने अपने इस डूडल में डॉ. वेंकटस्वामी की तस्वीर और उसके पीछे उनके द्वारा स्थापित किये गये अस्पताल को भी बनाया है जिसके परिसर में हरे-भरे पेड़ों को दिखाया गया है।
 
डॉ. वेंकटस्वामी का जन्म 01 अक्टूबर 1918 को तमिलनाडु में विरुद्धनगर जिले के वडामल्लपुरम गांव में हुआ। उन्होंने अपना पूरा जीवन दृष्टिहीन लोगों की मदद करने में बिता दिया। उन्होंने मोतियाबिंद जैसी बिमारी को दूर करने के लिए अलग तरह की सर्जरी का तरीका ईजाद किया।

डॉ. गोविंदप्पा ने मदुरै के अमेरिकन कॉलेज से रसायन विज्ञान में स्नातक किया और उसके बाद उन्होंने मद्रास के स्टैनली मेडिकल कॉलेज से चिकित्सा की डिग्री प्राप्त की। उन्होंने 1945 से तीन साल तक भारतीय सेना में फिजिशियन के तौर पर काम किया।

इसके बाद उन्होंने ने चिकित्सा का अध्ययन किया। गूगल ब्लॉग के मुताबिक, डॉ. वेंकटस्वामी एक दिन में सौ सर्जरी कर सकते थे। उन्होंने ग्रामीण क्षेाों में दृष्टिहीनों के उपचार के लिए ने शिविर लगाए और मोतियाबिंद जैसी बीमारी की रोकथाम के लिए प्रशिक्षण कार्यक्रमों का आयोजन किया। अपने जीवन में उन्होंने एक लाख से अधिक लोगों की आंखों की सर्जरी की।
 
 डॉ. वेंकटस्वामी ने 1976 में 58 वर्ष की आयु में अरविंद ने चिकित्सालय की स्थापना की जहां आज भी दृष्टिहीन लोगों का बहुत ही कम खर्च पर उपचार किया जाता है।

सरकार ने डॉ. वेंकटस्वामी के उत्कृष्ट कायरें के लिए उन्हें 1973 में पद्मश्री सम्मान दिया।  

सात जुलाई 2006 को 87 साल की उम्र में उनका निधन हो गया।