ट्रंप ने रद्द किया विदेश मंत्री पोम्पियो का उत्तर कोरिया दौरा

रायटर, वाशिंगटन

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने विदेश मंत्री माइक पोम्पियो का उत्तर कोरिया का दौरा रद्द कर दिया है और पहली बार सार्वजनिक तौर पर स्वीकार किया है कि उत्तर कोरिया को परमाणु हथियारों से मुक्त करने की उनकी कोशिश पर पूरी तरह अमल नहीं हुआ है।

अमेरिकी राष्ट्रपति ने शुक्रवार को एक ट्वीट में कहा कि कोरियाई प्रायद्वीप को परमाणु हथियारों से मुक्त करने की दिशा में पर्याप्त प्रगति नहीं हुई है। उन्होंने इसके लिए आंशिक तौर पर चीन को दोषी ठहराते हुए कहा कि विदेश मंत्री पोम्पियो की अगुआई में उत्तर कोरिया के साथ बातचीत अब चीन के साथ व्यापारिक संबंध सुधारने के बाद ही की जाएगी। उन्होंने कहा कि चीन ने अमेरिका के साथ व्यापारिक तनाव के कारण उत्तर कोरिया पर पर्याप्त दबाव नहीं बनाया।

ट्रंप ने कहा, मैंने विदेश मंत्री माइक पोम्पियो को इस समय उत्तर कोरिया नहीं जाने को कहा है क्योंकि मुझे लगता है कि हमने कोरियाई प्रायद्वीप के परमाणु निरसीकरण की दिशा में पर्याप्त प्रगति नहीं की है।

उल्लेखनीय है कि पोम्पियो को उत्तर कोरिया के लिए नियुक्त विशेष दूत स्टीफन बीगन के साथ अगले हफ्ते उत्तर कोरिया जाना था। यह अमेरिकी विदेश मंत्री का उत्तर कोरिया का चौथा दौरा होता, हालांकि उत्तर कोरिया के नेता किम जोंग-उन से उनकी मुलाकात नहीं होनी थी।

ट्रम्प ने कहा व्यापार को लेकर हमारे सख्त रवैये के कारण मुझे नहीं लगता कि चीन परमाणु निरस्त्रीकरण की दिशा में उसी तरह मदद कर रहा है जैसे वह पहले कर रहा था। पोम्पियो निकट भविष्य में उत्तर कोरिया जाने की योजना बना सकते हैं। शायद उस समय, जब चीन के साथ हमारे कारोबारी रिश्ते ठीक हो जाएंगे। इस दौरान मैं किम को हार्दिक सम्मान एवं शुभकामनाएं भेजना चाहता हूं। मुझे उनसे जल्द मिलने में खुशी होगी।

उन्होंने पोम्पियो की या अचानक रद्द करके सभी को सकते में डाल दिया है क्योंकि उन्होंने इससे पहले उत्तर कोरिया के नेता किम जोंग उन से 12 जून को हुई मुलाकात को सफल बताया था और यह भी कहा था कि अब उत्तर कोरिया से परमाणु हथियारों का खतरा खत्म हो गया है। उन्होंने स्वयं और उत्तर कोरियाई नेता के बीच‘कमाल का तालमेल’बताया था। संयुक्त राष्ट्र में उत्तर कोरियाई मिशन ने इस संबंध में कोई टिप्पणी करने से इंकार कर दिया।

पोम्पियो की यात्री रद्द करने के बावजूद राष्ट्रपति ट्रम्प ने किम के साथ दूसरे शिखर सम्मेलन का रास्ता खुला रखने का संकेत दिया है।

गौरतलब है कि  ट्रंप और किम के शिखर सम्मेलन के बाद से ऐसी कई रिपोर्ट आई हैं कि उत्तर कोरिया ने अपने परमाणु ठिकानों को बंद नहीं किया है। हाल ही में एक अमेरिकी अधिकारी ने जानकारी दी थी कि ऐसा लग रहा है कि उत्तर कोरिया नयी अंतरमहाद्विपीय बैलिस्टिक मिसाइल का निर्माण कर रहा है। संयुक्त राष्ट्र की परमाणु एजेंसी ने भी कहा है कि उत्तर कोरिया ने अपना परमाणु कार्यक्रम जारी रखा है।