टेनिस : नडाल ने जीता रोजर्स कप खिताब, तोड़ा सिटसिपास का सपना

वार्ता, मांट्रियल

विश्व के नंबर एक खिलाड़ी स्पेन के राफेल नडाल ने यूनान के जायंट किलर स्तेफानोस सिटसिपास का अपने 20वें जन्मदिन पर खिताब जीतने का सपना तोड़ दिया। नडाल ने सिटसिपास को 6-2 7-6 से हराकर चौथी बार रोजर्स कप टेनिस चैंपियनशिप का खिताब जीत लिया।
          
स्तेफानोस ऑस्ट्रिया के डोमिनिक थिएम, विंबलडन चैंपियन सर्बिया के नोवाक जोकोविच, विश्व के तीसरे नंबर के खिलाड़ी तथा गत चैंपियन जर्मनी के एलेक्सांद्र ज्वेरेव और विश्व के छठे नंबर के खिलाड़ी तथा विम्बलडन उपविजेता दक्षिण अफ्रीका के केविन एंडरसन को अपना शिकार बनाकर फाइनल में पहुंचे थे लेकिन वह नडाल से पार नहीं पा सके।
          
यूनानी खिलाड़ी अपने 20वें जन्मदिन पर  मास्टर्स 1000 खिताब के लिए उतरे लेकिन नडाल के खिलाफ अपनी दूसरी भिड़ंत में भी उन्हें पराजय का सामना करना पड़ा। नडाल का यह 33वां मास्टर्स 1000 खिताब और 2013 में सिनसिनाटी खिताब जीतने के बाद पहला मास्टर्स 1000 खिताब है।

सिटसिपास ने मैच में अच्छी शुरुआत की और पहला गेम शून्य पर जीत लिया। लेकिन नडाल ने इसके बाद दो बार यूनानी खिलाड़ी की सर्विस तोड़ी और पहला सेट 34 मिनट में निपटा दिया।
         
विश्व के 27वें नंबर के खिलाड़ी के समर्थन में कई यूनानी समर्थक अपने देश के झंडे लहराते हुए दर्शकों के बीच मौजूद थे लेकिन नडाल ने दूसरा सेट टाई ब्रेक में जीत कर यूनानी समर्थकों को मायूस कर दिया। नडाल ने टाई ब्रेक 7-4 से जीता।

सिटसिपास ने मैच का अपना पहला ब्रेक दूसरे सेट के 10वें गेम में हासिल किया और फिर अपनी सर्विस बरकरार रख मैच रोमांचक बना दिया। दूसरे सेट में अपनी लय से कुछ भटके दिखाई दे रहे नडाल ने टाई ब्रेक में अपना अनुभव दिखाया और सितसिपास को उनके जन्मदिन पर मायूस कर दिया।
        
32 वर्षीय नडाल ने इससे पहले 2005, 2008 और 2013 में यह खिताब जीता था। उनका यह 80वां खिताब है और वह ओपन युग में 80 खिताब जीतने वाले चौथे खिलाड़ी बन गए हैं। जिमी कोनर्स ने अपने करियर में 109, रोजर फेडरर ने 98 और इवान लेंडल ने 94 खिताब जीते हैं।