झारखंड : पूर्व मंत्री को पारा-शिक्षक की हत्या के मामले में उम्रकैद

आईएएनएस, रांची

राज्य के पूर्व मंत्री व अब झारखंड पार्टी के अकेले विधायक एनोस एक्का को मंगलवार को एक पारा-शिक्षक की हत्या के मामले में झारखंड की एक अदालत ने आजीवन कारावास की सजा सुनाई। सिमडेगा जिला अदालत ने 30 जून को एक्का को पारा शिक्षक मनोज कुमार की हत्या का दोषी करार दिया था। न्यायाधीश नीरज श्रीवास्तव की अदालत ने मंगलवार को उन्हें आजीवन कारावास की सजा सुनाई और उन पर एक लाख रुपये का जुर्माना भी लगाया।

दो साल से ज्यादा अवधि की सजा पाने के कारण वर्तमान राज्य विधानसभा की सदस्यता खोने वाले एक्का चौथे विधायक हैं।

एक्का ने 2005 से 2009 के बीच राज्य में सरकारों के गठन व गिराने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी। उनके समर्थन से मधु कोड़ा 2006 में मुख्यमंत्री बने थे और इसके बाद वह भाजपा की अगुवाई वाली अर्जुन मुंडा की सरकार में मंत्री रहे।

मनोज कुमार एक पारा शिक्षक थे जो एनोस एक्का की पार्टी से जुड़े थे। वह सिमडेगा के कोलीबेरा विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र से एक लोकप्रिय नेता थे। इस निर्वाचन क्षेत्र से वर्तमान में एक्का विधायक है।

साल 2014 के विधानसभा चुनावों से पहले मनोज कुमार ने एनोस एक्का का साथ छोड़ दिया और दूसरे उम्मीदवार का समर्थन किया। मनोज का एनोस एक्का के इशारे पर बंदूकधारियों ने अपहरण कर लिया और बाद में उनका शव जंगल में पाया गया।

मनोज कुमार के परिवार के सदस्यों ने एनोस एक्का के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज कराई। बाद में एक्का को गिरफ्तार किया गया।