जनधन योजना में सदा खुलते रहेंगे खाते

भाषा, नई दिल्ली

सरकार ने लोगों को बैंक खाता खोलने के लिए प्रोत्साहित करने के वास्ते प्रधानमंत्री जनधन योजना को हमेशा खुली रहने वाली योजना बनाने का बुधवार को फैसला किया। इसके साथ ही योजना में कुछ और प्रोत्साहन जोड़ने का भी फैसला किया गया है।
वित्त मंत्री अरुण जेटली ने मंत्रिमंडल के इस फैसले की जानकारी देते हुये संवाददाताओं को बताया कि प्रधानमंत्री जनधन योजना की भारी सफलता को देखते हुए सरकार ने इस योजना को हमेशा खुली रखने का फैसला किया है। योजना अनिश्चितकाल तक खुली रहेगी।
पीएमजेडीवाई को अगस्त, 2014 में शुरू किया गया था। तब योजना को चार साल के लिए खोला गया था। आम जनता को बैंकों से जोड़ने और उन्हें बीमा और पेंशन जैसी वित्तीय सेवाएं उपलब्ध कराने के लिए इसकी शुरुआत की गई। वित्तीय समावेश के राष्ट्रीय मिशन के तौर पर इसे शुरू किया गया। वित्त मंत्री ने कहा कि जनधन खातों को अधिक आकषर्क बनाने के लिए सरकार ने इन खातों में मिलने वाले ओवरड्राफ्ट की सुविधा को 5,000 रुपए से बढाकर 10,000 रुपए कर दिया।  योजना के तहत अब तक 32.41 करोड़ खाते खोले जा चुके हैं और इनमें अब तक 81,200 करोड़ रुपए की राशि जमा है। जनधन खाते खोलने वालों में 53 प्रतिशत महिलाएं हैं जबकि इनमें 83 प्रतिशत खाते आधार से जुड़े हुए हैं।