छत्तीसगढ़ में अटल की यादों को संजोए रखने के लिए होगा अहम निर्णय

वार्ता , रायपुर

छत्तीसगढ़ मंत्रिपरिषद की कल यहां होने वाली बैठक में राज्य निर्माता पूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय अटल बिहारी वाजपेयी की स्मृतियों को चिरस्थायी बनाने के लिए कई अहम निर्णयों की संभावना है।

मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह ने स्वयं इसका संकेत देते हुए कल यहां कहा कि राज्य सरकार कुछ बड़े प्रोजेक्ट को अटल जी के नाम पर करेंगी। मंत्रिपरिषद की बैठक में इस बारे में विचार विमर्श कर निर्णय लिया जायेगा।

उन्होंने कहा कि राज्य के हर गांव में अटल चौक पहले से ही बने हुए हैं। इनको और विकसित करने के बारे में भी निर्णय लिया जायेगा। अटल जी की जीवनी को स्कूली पाठ्यक्रम में शामिल करने के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि ऐसे कई निर्णय लिए जायेंगे।

दरअसल चुनावी वादों को पूरा करने को लेकर विश्वसनीयता के संकट के मौजूदा दौर के इतर दुनिया से अलविदा कर चुके पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी ने छत्तीसगढ़ राज्य के गठन का वादा पूरा कर लोगों के दिलों में वह जगह बना ली, जिसे वह कभी भी भुला नहीं सकेंगे। वाजपेयी ने नवम्बर 2000 में राज्य गठन के बाद छत्तीसगढ़ को सौगातों को देने का सिलसिला शुरू किया। 2004 में भाजपा के चुनाव हारने और प्रधानमंत्री पद से हटने के बाद भी वाजपेयी का छत्तीसगढ़ से जीवंत सम्बन्ध बना रहा।

मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह अटल जी की यादों को चिरस्थायी बनाना चाहते हैं और इसके लिए उनकी कुछ बड़े निर्णय लेने की मंशा है। डॉ सिंह वाजपेयी जी के मंत्रिमंडल में साथ काम चुके हैं। उन्हें अपना गुरु और पिता तुल्य मानते रहे हैं।