चीन, पाक को बेचेगा 48 अत्याधुनिक सैन्य ड्रोन

भाषा, पेइचिंग

चीन अपने परंपरागत सहयोगी पाकिस्तान को 48 अत्याधुनिक सैन्य ड्रोनों की बिक्री करेगा। यह अपनी तरह का सबसे बड़ा ऐसा सौदा होगा।
चीन के सरकारी अखबार ग्लोबल टाइम्स ने मंगलवार को एक रपट में कहा पाकिस्तान को विंग लूंग-दो मानवरहित विमान प्रणाली की बिक्री की जाएगी। हालांकि इस वृहद सौदे की कीमत उजागर नहीं की गई है। इसका निर्माण चेंगदू एयरक्राफ्ट इंडस्ट्रियल (ग्रुप) कंपनी ने किया है। यह एक अत्याधुनिक तकनीक से लैस विमान है। यह निगरानी, हमला करने के साथ-साथ कई अन्य तरह के काम करने में भी सक्षम है। यह ड्रोन विमान लगभग अमेरिका के एमक्यू-9 रीपर के समान है। खबर में कहा गया है कि इस मानवरहित ड्रोन विमान का संयुक्त तौर पर निर्माण भी किया जाएगा। पिछले साल चीन ने संयुक्त अरब अमीरात और मिस्र जैसे देशों को भी विंग लूंग-दो ड्रोन की बिक्री की थी। इसकी तब अनुमानित कीमत 10 लाख डॉलर प्रति इकाई थी।
चीन, पाकिस्तानी सेना को हथियारों की आपूर्ति करने वाला सबसे बड़ा देश है। दोनों देश मिलकर अभी जेएफ-थंडर लड़ाकू विमान का उत्पादन करते हैं। हाल में भारत के रूस से एस-400 प्रक्षेपास्त्र पण्राली खरीदने के बाद चीन की ओर से यह घोषणा की गई है। पिछले हफ्ते रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन की भारत यात्रा के दौरान इस संबंध में सौदे पर हस्ताक्षर किए गए। वहीं अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की सरकार ने भारत को 22 सी गार्जियन ड्रोन बेचने पर सहमति जतायी है। साथ ही खबर है कि इस्रइल भी भारत को 10 हेरॉन ड्रोन की आपूर्ति कर चुका है। पाकिस्तानी वायुसेना की शेरदिल एरोबेटिक टीम ने रविवार को अपने फेसबुक खाते पर चेंगदु एयरक्राफ्ट के ड्रोन विमानों को खरीदे जाने की जानकारी दी।