गुजरात के सूरत में भी कठुआ जैसी घटना!

भाषा, सूरत

गुजरात के सूरत में भेस्तान इलाके से इस महीने की शुरुआत में मृत मिली एक अज्ञात नाबालिग बच्ची के बारे में अंदेशा है कि उसे बंदी बनाकर रखा गया था, प्रताड़ित किया गया था और उसके साथ कई दिन तक बलात्कार भी किया। उसके शरीर पर ‘चोट के 86 निशान’ मिले थे। बच्ची की उम्र नौ से 11 वर्ष के बीच है।

बच्ची का शव छह अप्रैल को क्रिकेट के मैदान में झाड़ियों में पड़ा मिला था। इसके बारे में कुछ राहगीरों ने पुलिस को जानकारी दी थी। पांडेसरा पुलिस थाने के निरीक्षक के बी झाला ने कहा, पुलिस अभी लड़की की पहचान नहीं कर पाई है। लड़की की पहचान का पता लगाने के लिए हमने प्रिंट के साथ -साथ व्हाट्सएप जैसे सोशल मीडिया की मदद ली है। शहर के सिविल अस्पताल में डॉक्टर गणोश गोवेकर ने कहा कि लड़की के शरीर पर चोट के कम से कम 86 निशान मिले।

इसी अस्पताल में लड़की का पोस्ट मार्टम किया गया था। गोवेकर ने कहा, चोट के निशानों को देखते हुए, ऐसा प्रतीत होता है कि उसे ये चोटें एक सप्ताह पूर्व से लेकर शव बरामद होने से एक दिन पहले तक दी गई होंगी।

इससे प्रतीत होता है कि शायद लड़की का अपहरण कर उसे प्रताड़ित किया गया और शायद उसके साथ बलात्कार भी किया गया। पुलिस ने लड़की के बारे में जानकारी देने वाले को 20,000 रुपए का इनाम देने की घोषणा की है।

मामले में फॉरेंसिक साइंस लैबोरेटरी (एफएसएल) की भी मदद ली जा रही है। पुलिस ने भारतीय दंड संहिता की धारा 302, 323 और 376 और पोक्सो अधिनियम के प्रावधानों तहत अज्ञात लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है।