क्लैट : 400 छात्रों को सुप्रीम कोर्ट से बड़ी राहत

सहारा न्यूज ब्यूरो, नई दिल्ली

उच्चतम न्यायालय ने विधि विश्वविद्यालयों और कॉलेजों में प्रवेश संबंधी ऑनलाइन परीक्षा ‘कॉमन लॉ एडमिशन टेस्ट’(क्लैट) में तकनीकी समस्याओं के कारण पूरी परीक्षा नहीं दे

पाने वाले कम से कम 400 अभ्यर्थियों को अतिरिक्त अंक देने का आदेश दिया।
न्यायमूर्ति उदय उमेश ललित और न्यायमूर्ति दीपक गुप्ता की अवकाशकालीन खंडपीठ ने इन छात्रों को बड़ी राहत प्रदान करते हुए नेशनल यूनिवर्सिटी ऑफ एडवांस लीगल स्टडीज

(एनयूएएलएस) को अतिरिक्त अंक के आधार पर 16 जून तक नई मेधा सूची तैयार करने के आदेश दिये। न्यायालय ने स्पष्ट किया कि संशोधित मेधा सूची ऑनलाइन परीक्षा में

तकनीकी दिक्कतों की शिकायत करने वाले 400 छात्रों के अंकों में अतिरिक्त अंक जोड़कर ही तैयार की जानी चाहिए। अवकाशकालीन पीठ ने शिकायतकर्ता छात्रों की याचिकाओं का

निपटारा करते हुए यह आदेश दिया। शीर्ष अदालत ने यह भी स्पष्ट किया है कि परीक्षा में शामिल छात्रों की पहली सूची के आधार पर पहले चरण की काउंसलिंग जारी रहेगी, लेकिन

दूसरी चरण की काउंसलिंग संशोधित सूची के आधार पर की जाएगी और यह सूची 16 जून तक तैयार कर ली जानी चाहिए।