किसान आंदोलन: मंडियों में सन्नाटा, मंहगी हुई सब्जियां, बढ़ी मुसीबतें

वार्ता, जयपुर

विभिन्न किसान संगठनों के आन्दोलन के चलते आज चौथे दिन प्रदेश की अधिकांश सब्जी मंडियों में सन्नाटा फैलता जा रहा है वहीं आम उपभोक्ताओं की सब्जी महंगी होने से मुसीबतें बढ़ गयी है। किसानों की गांव बंदी की आड़ में उत्पातियों द्वारा जबरन तनाव फैलाया जा रहा है जिसके मद्देनजर पुलिस को भी सख्ती करनी पड़ रही है।
          
प्रदेश की मंडियों में आवक कम होने से सब्जियों के भावों में जबर्दस्त उछाल आ गया है वहीं दूध की आपूर्ति गड़बड़ाने से अब बूथों पर दूध की किल्लत होने लग गई है। जयपुर डेयरी को दूध आपूर्ति में काफी मशक्कत करनी पड़ रही है। किसानों के आंदोलन का असर अब चुरू के सादुलपुर, बांरा और अन्य इलाकों में फैल गया है जिसके तहत वहां पर भी जगह जगह सड़कों पर दूध को बिखेरा गया और सब्जियां फैंकी गयी।
        
सब्जियों की आवक नहीं होने से आमतौर पर हर समय व्यस्त रहने वाली राजधानी की प्रमुख मुहाना मंडी,सहित लाल कोठी और परकोटे के भीतर की मंडियों में सन्नाटा व्याप्त हो गया है। मंडियों में आ रही कुछ सब्जियों के कारण दामों में पचास प्रतिशत से अधिक की बढोतरी हो गयी है।
       
किसान आंदोलन का सर्वाधिक असर बीकानेर संभाग के श्रीगंगानगर में हो रहा है जहां किसान आंदोलन के नाम पर कुछ उत्पातियों द्वारा मंडियों में सब्जी पहुंचाने वाले किसानों के साथ हाथापायी किये जाने के समाचार मिले है। इन घटनाओं को रोकने के लिये अब पुलिस भी आंदोलनकारियों के खिलाफ सख्ती करने लग गई है।

पुलिस ने श्रीगंगानगर , बीकानेर सहित कुछ स्थानों पर आंदोलनकारी किसानों के खिलाफ मामला भी दर्ज किया है।

राजधानी जयपुर में आज डेयरी में दूध की आपूर्ति नहीं होने के कारण  गोल्ड दूध की आपूर्ति नहीं की गई। डेयरी प्रबंध द्वारा दूध की आपूर्ति बनाये रखने के मकसद से  गोल्ड दूध को रोक लिया गया। आंदोलन के कारण डेयरी में पर्याप्त मा में दूध नहीं आ पा रहा है। डेयरी प्रबंध द्वारा फिलहाल अलवर, भीलवाड़ा और कोटा से दूध मंगवाकर आपूर्ति की जा रही है। दूध के संकट के चलते चाय की थड़यिां भी कई इलाकों में आज नहीं खुली।
         
जयपुर में डेयरी प्रबंध ने उत्पातियों द्वारा दूध के टैंकरों से जबरन दूध सड़क पर फैलाने की वारदातों को देखते हुये टैंकरों से दूध संकलन नहीं करने का निर्णय लिया है। डेयरी प्रबंधन के अनुसार तीन दिनों में उत्पातियों द्वारा डेयरी का करीब 50 हजार लीटर सड़कों पर बिखेर दिया गया है।
             
राजधानी के नींदड में गत तीन दिनों से यब्जियां और दूध को रोक कर रखे किसानों ने सरकार के प्रति अपना विरोध दर्ज कराने के लिये आज  दौलतपुरा सहित कुछ स्थानों पर दूध और सब्जियां नि:शुल्क बांटने का निर्णय किया है।
             
श्रीगंगानगर में किसान आंदोलन के नाम पर आम लोगों से बदसलूकी करने और उनका दूध बिखरने पर पुलिस ने सख्त कदम उठाते हुए  जवाहर नगर थाने में दूध यूनियन के अध्यक्ष सुभाष स्वामी व छह अन्य के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है। बताया जाता है कि आंदोलन की आड में इन्होंने आम आदमी का चार किलो दूध छीनकर सड़क पर फेंक दिया था। इसी तरह सूरतगढ़ में हाइवे स्थित पिपेरन स्टैंड पर रविवार रात अराजकता फैला रहे आंदोलनकारियों पर पुलिस ने किया हल्का बल प्रयोग कर उन्हें खदेड़ा।