एशियाई खेल : जॉनसन और महिला रिले टीम ने लगाई स्वर्णिम दौड़

वार्ता, जकार्ता

मध्य दूरी के धावक जिनसन जॉनसन ने कमाल का प्रदर्शन करते हुए भारत को 18वें एशियन गेम्स की 1500 मीटर स्पर्धा में बृहस्पतिवार को स्वर्ण पदक दिला दिया जबकि महिलाओं की 4 गुणा 400 मीटर रिले टीम ने इस कामयाबी को आगे बढ़ाते हुए देश को एक और स्वर्ण पदक दिलाया। पुरुषों की 4 गुणा 400 मीटर रिले टीम ने रजत और महिला डिस्कस थ्रोअर सीमा पुनिया ने कांस्य पदक जीता। वहीं एशियाई चैंपियन पीयू चित्रा ने महिलाओं की 1500 मीटर दौड़ में कांस्य पदक जीता।
जॉनसन ने भारत के लिए 12वां और महिला रिले टीम ने 13वां स्वर्ण पदक जीता। भारत ने इसके साथ ही 1982 के नई दिल्ली एशियन गेम्स के अपने प्रदर्शन को पीछे छोड़ दिया। भारत ने तब 13 स्वर्ण सहित 57 पदक जीते थे जबकि इस बार भारत के 13 स्वर्ण सहित 59 पदक हो गए हैं। ओवरऑल एशियन गेम्स में भारत का यह तीसरा सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन हो गया है।
एथलेटिक्स प्रतियोगिताओं के अंतिम दिन भारत ने दो स्वर्ण, एक रजत और एक कांस्य पदक जीता। भारत ने इस बार एथलेटिक्स में अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करते हुए 7 स्वर्ण, 10 रजत और 2 कांस्य सहित कुल 19 पदक हासिल किए। भारत ने पिछले इंचियोन खेलों में 2 स्वर्ण, 3 रजत और 8 कांस्य सहित कुल 13 पदक जीते थे। जॉनसन ने इन खेलों में 800 मीटर दौड़ में रजत पदक जीता था लेकिन 1500 मीटर दौड़ में उन्होंने सुनहरी कामयाबी हासिल की। रियो ओलंपिक में हिस्सा लेने वाले केरल के 27 वर्षीय जॉनसन इस साल कॉमनवेल्थ गेम्स में तीन मिनट 37.86 सेकेंड का समय लेकर पांचवें स्थान पर रहे थे। लेकिन जकार्ता में उन्होंने तीन मिनट 44.72 सेकेंड का समय निकाला और अच्छे अंतर के साथ स्वर्ण ले उड़े।
800 मीटर में जॉनसन को दूसरे स्थान पर छोड़ स्वर्ण पदक जीतने वाले मंजीत सिंह तीन मिनट 46.57 सेकेंड का समय लेकर चौथे स्थान पर रहे। ईरान के आमिर मोरादी ने तीन मिनट 45.62 सेकेंड का समय लिया और रजत पदक जीता। बहरीन के मोहम्मद तियोली ने तीन मिनट 45.88 सेकेंड का समय लेकर कांस्य पदक अपने नाम किया। भारत की 4 गुणा 400 मीटर महिला रिले टीम ने शानदार प्रदर्शन किया और तीन मिनट 28.72 सेकेंड का समय लेकर स्वर्ण जीता। महिला टीम की कामयाबी के बाद 4 गुणा 400 मीटर पुरुष रिले टीम ने भी शानदार प्रदर्शन किया और तीन मिनट 01.85 सेकेंड का समय लेकर रजत हासिल किया।
हिमा दास, एमआर पूवम्मा, सरिता बेन गायकवाड और विस्मय वेलूवा कोरोथ की चौकड़ी ने अन्य टीमों से लगातार आगे रहते हुए स्वर्ण कब्जाया। बहरीन ने तीन मिनट 30.61 सेकेंड का समय लेकर रजत और वियतनाम ने तीन मिनट 33.23 सेकेंड का समय लेकर कांस्य पदक जीता। भारत की पुरुष टीम में शामिल मोहम्मद कुन्हू पुथानपुराकल, धरुण अयासामी, मोहम्मद अनस और अरोकिया राजीव ने रजत पदक हासिल किया। इस स्पर्धा में कतर ने लगातार बढ़त बनाए रखते हुए एशियाई रिकॉर्ड के साथ स्वर्ण पदक जीता। जापान को कांस्य पदक मिला।
महिला डिस्कस थ्रो में हरियाणा की 35 वर्षीय सीमा पुनिया ने कांस्य पदक हासिल किया। उन्होंने चार साल पहले इंचियोन में स्वर्ण पदक जीता था और इस साल कॉमनवेल्थ गेम्स में रजत पदक हासिल किया था। इंचियोन में उनकी थ्रो 61.03 मीटर और गोल्डकोस्ट में 60.41 मीटर रही थी। सीमा ने हालांकि इस बार 62.26 मीटर की थ्रो फेंकी लेकिन वह चीनी एथलीटों से पार नहीं पा सकीं। चीन की यांग चेन ने 65.12 मीटर की थ्रो के साथ स्वर्ण और उनकी हमवतन बिन फेंग ने 64.25 मीटर की थ्रो के साथ रजत जीता। इस स्पर्धा में भारत की संदीप कुमारी 54.61 मीटर की थ्रो के साथ पांचवें स्थान पर रही। पुरुषों की 5000 मीटर दौड़ में भारत के लक्ष्मणन गो¨वदन 14 मिनट 17.09 सेकेंड का समय लेकर छठे स्थान पर रहे। बहरीन ने इस स्पर्धा के स्वर्ण और रजत तथा सऊदी अरब ने कांस्य पदक जीते।
महिलाओं की 1500 मीटर दौड़ में पीयू चित्रा ने कांस्य पदक जीता। चित्रा ने मौजूदा सत्र में एशिया में सर्वश्रेष्ठ समय निकाला है लेकिन उन्हें चार मिनट 12.56 सेकेंड के समय के साथ कांस्य पदक से संतोष करना पड़ा। बहरीन ने पहले दो स्थानों पर कब्जा जमाया। काल्कीदन बेफकादु ने चार मिनट 7.88 सेकेंड के समय के साथ स्वर्ण पदक जीता जबकि तिगिस्त बेलाय ने चार मिनट 9.12 सेकेंड के साथ रजत पदक हासिल किया। चित्रा ने 2017 एशियाई चैंपियनशिप में चार मिनट 17.92 सेकेंड के समय के साथ स्वर्ण पदक जीता था।