एप पर घमासान

,

कांग्रेस एवं भाजपा के बीच अपने-अपने एप और बेवसाइट से लोगों की प्राप्त जानकारियां, जिसे आज की भाषा में डाटा कहते हैं, लीक करने का जो आरोप-प्रत्यारोप चल रहा है वह बेहद दुर्भाग्यपूर्ण है।

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के ट्वीट से प्रधानमंत्री के ‘नमो एप’ से जुड़े लोगों की जानकारियां अमेरिका को देने का गंभीर आरोप लगाया गया। सरकार एवं भाजपा की ओर से इसका जवाब दिया जाना स्वाभाविक था। उसने भी कांग्रेस पर अपने एप की जानकारी विदेशों में लीक करने का प्रत्यारोप जड़ दिया। भाजपा ने ऐसे तथ्य दिए, जो कांग्रेस के आरोप से कहीं वजनदार दिखते थे।

कांग्रेस ने पता नहीं क्यों इस विवाद के बाद अपने मोबाइल एप ‘विदआईएनसी’ को गुगल प्ले स्टोर से हटा लिया। शायद यह नरेन्द्र मोदी पर दबाव बढ़ाने के लिए था कि वे भी ‘नमो एप’ हटाने को मजबूर हो जाएं। आज जब दुनिया में फेसबुक से डाटा चोरी कर उसके राजनीतिक दुरु पयोग की सूचनाएं पुष्ट हो रहीं हैं, ऐसे आरोप-प्रत्यारोपों पर देश में गंभीर बहस आरंभ हो गई है।

हालांकि दोनों पार्टियां जानतीं हैं कि कोई जानबूझकर अपने एप या साइट से जुड़े लोगों की जानकारियां किसी को लीक नहीं कर सकता है। पर राजनीति जो न कराए। 2014 के चुनाव में मोदी और भाजपा सोशल मीडिया के हीरो थे। सभी पार्टियां इसमें उनसे पीछे हो गई थीं। इसका उसे चुनावी लाभ भी मिला। 2019 में कांग्रेस इस स्थिति को बदलना चाहती है।

उसका आइटी विभाग पहले से ज्यादा चुस्त और सक्रिय है। दोनों पार्टियों के बीच आभासी दुनिया पर घनघोर युद्ध चल रहा है। किंतु इसका यह मतलब नहीं कि देश की दो प्रमुख पार्टियां एक-दूसरे को ही इस मामले में अविसनीय बना दें। हालांकि कोई भी एप या सोशल साइट या वेबसाइट शत-प्रतिशत गोपनीयता की गारंटी नहीं दे सकता। किंतु प्रधानमंत्री अपने एप से जुड़े लोगों की जानकारियां तथाकथित अमेरिकी दोस्तों को देते होंगे, इस पर विास किया ही नहीं जा सकता।

इसी तरह कांग्रेस अपने एप से जानकारियां सिंगापुर में लीक करती होगी यह भी स्वीकार करने योग्य आरोप नहीं है। होना तो यह चाहिए कि  दोनों पार्टियां साइबर स्पेस में एक-दूसरे के खिलाफ मुद्दों पर सवाल-जवाब या आक्रमण-प्रत्याक्रमण करे। लेकिन इस तरह के आरोप-प्रत्यारोपों से बाज आएं, जिनसे राजनीति से और उसके प्रमुख व्यक्तित्वों पर से लोगों का विास उठ जाने का खतरा हो। डाटा लीक आरोपों का वर्तमान युद्ध इसी तरफ जा रहा है।