एक पुजारी से राजकाज की उम्मीद बेमानी: अखिलेश

वार्ता , लखनऊ

समाजवादी पार्टी (सपा) अध्यक्ष अखिलेश यादव ने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पर तीखा हमला बोलते हुये कहा कि एक पुजारी से कुशल कामकाज की उम्मीद करना बेमानी होगा।

यादव ने शनिवार को कहा, लोगों को पता होना चाहिये कि प्रदेश के मुख्यमंत्री वास्तव में एक पुजारी हैं और एक पुजारी से कुशल प्रशासक की उम्मीद कैसे की जा सकती है।

उन्होंने कहा कि योगी के नेतृत्व वाली भाजपा सरकार ने विकास को लेकर अब तक कोई भी काम नहीं किया है। इस सरकार ने लोगों को केवल विभिन्न योजनाओं और परियोजनाओं के नाम पर भ्रमित किया है। प्रदेश की कानून व्यवस्था की स्थिति ध्वस्त हो चुकी है। विकास कार्य ठप पड़े है। भाजपा सरकार केवल सपा सरकार द्वारा शुरू किए गए कार्यों का उद्घाटन कर रही है। बड़े पैमाने पर भ्रष्टाचार और अन्य अनियमितताओं में वृद्धि हुई है।

पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि अब व्यवस्था में बड़ा बदलाव देखने को मिल रहा है। दीपावली आ रही है और तमाम कोशिशों के बावजूद अभी भी ज्यादातर उत्पाद पड़ोसी देश चीन के ही बाजार में दिखाई देंगे। सिर्फ मिठाई यहां की होगी, मगर डिब्बा चीन का ही होगा। ऑनलाइन व्यवस्था के चक्कर में आज 40 से 50 फीसदी बच्चों के चश्मे लग गए है। कैंसर, हार्ट अटैक, आंख कमजोर, शुगर के मरीजों की संख्या भारत में बढ़ रही है।

इलाहाबाद विश्वविद्यालय में अराजकता की घटना पर अखिलेश ने कहा, सरकार जिम्मेदार है ये लोग जीत नहीं पाते हैं तो आग लगवाने के काम करते है चुनाव टलवाने की कोशिश करते हैं।

पुलिसकर्मियों के अंसतोष के मुद्दे पर यादव ने कहा, आप किसी से उसके खिलाफ काम कराओगे तो ऐसा ही होगा, सिपाहियों के आक्रोश के लिए पुलिस के अधिकारी ही जिम्मेदार हैं। सरकार को सोचना चाहिए कि कितने अधिकारी-पुलिस के जवान आज आत्महत्या कर रहे हैं। महोबा में उपजिलाधिकारी की आत्महत्या के लिए जिलाधिकारी जिम्मेदार है। साथ ही सरकार की व्यवस्था भी इसके लिए जिम्मेदार है।

यादव ने कहा कि सरकारी विभागों की हालत खराब है। उन्होंने आरोप लगाया कि महोबा के उपजिलाधिकारी ने अनियमितताओं के कारण मजबूर होकर आत्महत्या कर ली। पुलिस विभाग में आत्महत्या के मामलों में वृद्धि हुई है।

इससे पहले, यादव ने यहां वरिष्ठ शिक्षकों के सम्मेलन के दौरान राज्य के कुछ वरिष्ठ शिक्षकों को सम्मानित किया। इस अवसर पर चित्रकूट स्थित एक निजी विश्वविद्यालय के पूर्व कुलपति डॉ बी पांडे ने सपा में शामिल हुये।