उस्ताद बिस्मिल्लाह खान की 102वीं जयंती पर गूगल की श्रद्धांजलि

आईएएनएस, नई दिल्ली

सर्च इंजन गूगल ने बुधवार को दिग्गज शहनाई वादक उस्ताद बिस्मिल्लाह खान को उनकी 102वीं जयंती पर एक खास डूडल समर्पित कर याद किया है. इस डूडल को चेन्नई निवासी चित्रकार विजय कृष ने डिजाइन किया है. इसकी पृष्ठभूमि में ज्यामितीय शैली का पैटर्न बना हुआ है और बिस्मिल्लाह खान शहनाई बजाते नजर आ रहे हैं.

बिहार के राजदरबार के संगीतकारों के परिवार में 1916 में उनका जन्म हुआ था. खान को संगीत से बेहद प्रेम था और वह अक्सर शहनाई को अपनी पत्नी कहते थे.

सादगी और मधुर व्यवहार के लिए प्रसिद्ध खान भारत के सभी चार सबसे बड़े नागरिक सम्मानों से नवाजे जा चुके हैं, जिसमें भारतरत्न भी शामिल है.

उन्होंने न केवल 1947 में भारत के पहले स्वतंत्रता दिवस समारोह में प्रस्तुति दी थी, बल्कि 1950 में पहले गणतंत्र दिवस समारोह में भी प्रस्तुति दी थी.

डूडल पेज के मुताबिक, "हालांकि, उन्होंने 14 वर्ष की उम्र में सार्वजनिक रूप से शहनाई वादन शुरू कर दिया था, लेकिन 1937 में कोलकाता में हुआ अखिल भारतीय संगीत सम्मेलन उनके करियर में एक महत्वपूर्ण मोड़ लेकर आया."

डूडल पेज पर आगे कहा गया है, "तीन दशक बाद, जब उन्होंने एडिनबर्ग संगीत महोत्सव में प्रस्तुति दी, तो शहनाई को वैश्विक दर्शक मिले और लाखों लोगों के दिलोदिमाग पर यह छा गया."

दुनिया को संगीत के जरिए एकजुट करने के सपने के साथ 2006 में वाराणसी में बिस्मिल्लाह खान चल बसे, जहां उन्होंने अपना जीवन बिताया था.